Install App Install App

सही Smartphone खरीदने के लिए यह गाइड मदद करेगी आपकी, क्या-क्या देखें नए स्मार्टफोन में...

Digit Hindi | पब्लिश किया गया 08 Sep 2021
सही Smartphone खरीदने के लिए यह गाइड मदद करेगी आपकी, क्या-क्या देखें नए स्मार्टफोन में...
HIGHLIGHTS
  • बेस्ट स्मार्टफोन गाइड आपके आएगी काम

  • नया स्मार्टफोन खरीदने के लिए यह है सबसे काम की चीज़

  • कोई भी फोन खरीदने से पहले इन बारीकियों पर डालें नज़र

एक स्मार्टफोन (smartphone) हमारे जीवन का एक अभिन्न हिस्सा बन गया है, यह मात्र हमें अपने करीबियों से जोड़े रखता है इसके अलावा हम आजकल इसे एक बिज़नेस टूल की तरह इस्तेमाल करने लगे हैं। हम में से कुछ हैं जो अपने मनोरंजन के लिए मोबाइल फोन (mobile phone) पर ही पूरी तरह से निर्भर हों गए हैं, हालाँकि कुछ ऐसे भी हैं जो अपने कुछ ख़ास लम्हों को कैद करने के लिए इसका बड़े पैमाने पर इस्तेमाल कर रहे हैं। इसी कारण इसकी डिमांड और सप्लाई भी बढ़ती जा रही है। एक समय था जब स्मार्टफोन को खरीदना काफी आसान था, आप आसानी से अपने किसी नजदीकी स्टोर पर जाकर इस बारे में जानकारी ले सकते थे कि आखिर आपका जानामाना ब्रांड किस तरह के ऑफर आपको दे रहा है। यह भी पढ़ें: Reliance Jio का धांसू प्लान, Airtel-Vodafone idea के पास नहीं है ऐसा धाकड़ प्लान

हालाँकि आजकल का दौर पूरी तरह से बदल गया है, आपको बता दें कि आजकल सभी कंपनियों के पास कई ऑप्शन्स हैं, जो वह आपको ऑफर कर रही हैं। सभी अलग अलग ऑप्शन/मॉडल्स में आपको अलग अलग हार्डवेयर (hardware) और सॉफ्टवेयर (software) फीचर्स मिल रहे हैं। आजकल बहुत सी चीजों पर ध्यान देना जरुरी हो गया है, जैसे अब आपको किसी भी स्मार्टफोन (smartphone) की कीमत को देखना होगा, अपने इस्तेमाल के पैटर्न को देखना होगा, हालाँकि सबसे ख़ास बात यह है कि आपको एक स्मार्टफोन (smartphone) क्या चाहिए, जो उसे सबसे खास बनाता है। अब इन सब में आप उलझ सकते हैं, हालाँकि आपको चिंता करने की जरूरत नहीं है, आप एक सही स्थान पर आ पहुंचे हैं। यहाँ आपको एक स्मार्टफोन से जुड़े उन सभी पहलुओं के के बारे में पता चल जाएगा, जो आपको इन्हें खरीदने के लिए ध्यान में रखने चाहिए। यह भी पढ़ें: Google ने ये आठ खतरनाक ऐप्स किए बैन जो लगातार खा रहे थे यूजर्स का पैसा, प्ले स्टोर से भी हटाए गए

स्मार्टफोन प्रोसेसर (Processor)

बेनिफिट: जितना ज्यादा शक्तिशाली किसी स्मार्टफोन में प्रोसेसर (smartphone processor) होगा, उतना ही वह कम हैंग करेगा।

यह क्या है: प्रोसेसर को आप एक स्मार्टफोन के दिमाग के तौर पर देख सकते हैं। आपके स्मार्टफोन में जितना ज्यादा शक्तिशाली प्रोसेसर (powerful  processor) होगा, उतना ही कम आपका फोन हैंग (phone hang) करेगा, उतने ही स्मूदली आप फोटो एडिशन बन जाएँगी, एप्स बड़ी आसानी से ओपन हो जायेंगे, साथ ही गेमिंग लैग फ्री हो जाने वाली है। यह भी पढ़ें: Disney+ Hotstar का सब्स्क्रिप्शन चाहते हैं लेकिन फ्री तो ये रीचार्ज हैं आपके लिए, Jio, Airtel और Vodafone की नई पेशकश

प्रोसेसर ब्रांड

बेनिफिट: कम कीमत में आपके पसंद के प्रोसेसर की सुविधा का होना जरुरी

smartphone processor

यह क्या है: आजकल ज्यादातर स्मार्टफोंस या तो क्वालकॉम के प्रोसेसर के साथ आते हैं, या फिर उनमें मीडियाटेक का कोई प्रोसेसर (processor) होता है। हालाँकि जहां क्वालकॉम के प्रोसेसर (qualcomm processor) को हाई-एंड स्मार्टफोंस के लिए जाना जाता है, कुछ महंगे फोंस में इस्तेमाल किया जाता है, वहां मीडियाटेक प्रोसेसर मिड-रेंज और एंट्री लेवल स्मार्टफोंस को ध्यान में रखकर बनाया जाता है। यह प्रोसेसर पॉवर और बैटरी लाइफ के बीच बैलेंस बनाकर रखते हैं। इसके अलावा आपने इस बात को भी गौर किया होगा कि अगर आप सैमसंग या हॉनर के किसी स्मार्टफोन को खरीदते हैं तो आपको बता दें कि इनमें आपको खासतौर पर एक्सीनोस या किरिन के प्रोसेसर मिलते हैं। हालाँकि इसके अलावा एप्पल की ओर से उसके iPhones (एक्सिनोस) के लिए खुद के प्रोसेसर निर्मित किये जाते हैं, इनमें से लेटेस्ट की अगर बात करें तो वह A11 Bionic चिप है। अब अगर हम स्नेपड्रैगन और मीडियाटेक के प्रोसेसर की अलग अलग बात करें तो ऐसा कहा जा सकता है कि स्नेपड्रैगन के प्रोसेसर ज्यादा बेहतर काम करते हैं। इतना ही नहीं इनमें आपको प्रीमियम ओफ़रिंग भी मिलती है। यह भी पढ़ें: WhatsApp यूजर्स के लिए चेतावनी: इस बड़े फ्रॉड से बचें वरना बैंक अकाउंट में नहीं बचेगा एक भी पैसा

ProTip: अगर बात चल रही है प्रोसेसरों की तो, आपको बता देते हैं कि किसी भी प्रोसेसर का अगर ज्यादा नंबर है, तो वह उतना ही ज्यादा बढ़िया परफॉर्म करता है।

प्रोसेसर स्पेसिफिकेशन्स (Processor Specifications)

सभी प्रोसेसर अपनी खास स्पेसिफिकेशन्स के लिए जाने जाते हैं, इनमें प्रोसेसर के कोर्स आते हैं, इसके अलावा क्लॉकस्पीड भी यहाँ देखी जाती है, जिसपर आमतौर पर प्रोसेसर चलता है। यह कुछ ऐसा हो सकता है, “1.4GHz Octa-Core प्रोसेसर”, या “2.0GHz क्वाड-कोर प्रोसेसर।” अब यहाँ आपको यह भी देखना होगा कि ज्यादा कोर का होना यह डिफाइन नहीं करता है कि फोन ज्यादा बेहतर परफोर्म करेगा, हालाँकि हायर क्लॉक स्पीड ऐसा ही करती है। अगर आप कोर्स और क्लॉक स्पीड के बारे में ज्यादा जानना चाहते हैं तो आप नीचे इनके बारे में विस्तार से जान सकते हैं। यह भी पढ़ें: Redmi ने शुरू किया एक अजब ही फोन पर काम, ये पांच खूबियां नहीं हटने देंगी फोन से आपकी नज़र

कोर्स 

बेनिफिट: ज्यादा कोर्स=बढ़िया परफॉरमेंस 

यह क्या हैं: कोर्स को प्रोसेसर की मांस-पेशियाँ कहा जा सकता है, अर्थात् यह किसी भी प्रोसेसर की मांस-पेशियों जैसी होती हैं। जितने ज्यादा कोर होंगे, उतना ज्यादा आपका प्रोसेसर शक्तिशाली होगा। इसका मतलब यह हुआ कि क्वाड-कोर के मुकाबले ओक्टा-कोर ज्यादा शक्तिशाली होते हैं। अब अगर क्वाड-कोर की बात आती है तो यह ड्यूल-कोर के मुकाबले ज्यादा शक्तिशाली होते हैं। किसी भी प्रोसेसर में कोर्स का एक फिक्स नंबर होता है। आप इसे बदल भी नहीं सकते हैं। हालाँकि आप एक फोन के जरुर चुनाव कर सकते हैं जो या तो ज्यादा कोर्स के साथ आता हो या फिर कम कोर्स के साथ बाजार में मौजूद हो। यह भी पढ़ें: पुराना मोबाइल खरीदते समय न करें ये गलती, इन 5 बातों का रखें खास ध्यान

मिथ: हमेशा एक ऐसे स्मार्टफोन का चुनाव करना चाहिए, जो ज्यादा प्रोसेसर कोर्स के साथ आता हो।

सच: आपको हर समय एक ऐसे प्रोसेसर की जरूरत नहीं है जो ज्यादा कोर्स के साथ आता हो, खासतौर पर उस समय जब आप अपने स्मार्टफोन पर ज्यादा हैवी गेमिंग न करते हों। 

क्लॉकस्पीड 

बेनिफिट: जितनी ज्यादा आपके प्रोसेसर की क्लॉक स्पीड होगी, उतना ही ज्यादा यह बेहतर परफॉरमेंस देगा।

यह क्या है: क्लॉक स्पीड के कारण ही आपके प्रोसेसर द्वारा चीजों को जल्दी जल्दी किया जाता है, इसका मतलब है कि जितनी ज्यादा आपके प्रोसेसर की क्लॉक स्पीड होगी, उतना ज्यादा ही आपका प्रोसेसर तेज़ी से काम करेगा। इसे आमतौर पर हम GHz में मापते हैं, इसके अलावा जितना ज्यादा नंबर इसमें मौजूद हो उतना ही अच्छा है। यह भी पढ़ें: Reliance Jio के इस कड़क प्लान में मिलता है 90GB तक डेटा, कीमत शुरू होती है मात्र 129 रुपये से, डिटेल्स

ग्राफ़िक्स प्रोसेसिंग यूनिट 

ग्राफ़िक्स प्रोसेसिंग यूनिट या GPU आपके स्मार्टफोन की गेमिंग परफॉरमेंस (gaming performance) को डिफाइन करता है, ऐसा भी कहा जा सकता है कि यह गेमिंग के लिए एक जरुरी हिस्सा है। एक प्रोसेसर के लिए एक GPU एक जरुरी हिस्सा होता है, हालाँकि इसके लिए आपको चिंता करने की जरूरत नहीं है, क्योंकि आप इसे अपने स्मार्टफोन में बदल नहीं सकते हैं, आपके फोन में पहले ही इसे शामिल कर लिया जाता है। मोबाइल प्रोसेसर ऐसे GPU के साथ आते हैं, जो फोन की परफॉरमेंस सुनिश्चित कर सके। यहाँ आपको अपने CPU में किस GPU को इस्तेमाल किया है, इसकी चिंता करने की जरूरत नहीं है। यह भी पढ़ें: 5000mAh की बड़ी बैटरी वाला itel Vision 2s हुआ लॉन्च, कीमत है 7000 रुपये से भी कम

डिस्प्ले

बेनिफिट: अद्भुत दृश्य और केवल एक हाथ के साथ उपयोग में आसानी।

यह क्या है: आपके स्मार्टफोन में डिस्प्ले ही एक ऐसा स्थान है, जहां आप इसके सभी तरह के कंटेंट से रूबरू होते हैं। एक डिस्प्ले का टाइप और साइज़ इस बात को सुनिश्चित करता है कि आपके फोन में जो कुछ है आप उसका लाभ ले पा रहे हैं या नहीं, अर्थात् आप इसे एन्जॉय कर रहे हैं या नहीं। अगर आप चाहते हैं कि आप एक स्मार्टफोन को लेने के समय उसकी डिस्प्ले का गलत चुनाव न कर लें तो इन बातों को आपको अपने जहन में रखना होगा। यह भी पढ़ें: Blaupunkt ने फ्लिपकार्ट ग्रैंड होम एप्लायंसेज़ सेल में 32 और 42 इंच के स्मार्ट एंड्रॉइड TV के लिए कीमतों में कटौती की

स्मार्टफोन का डिस्प्ले साइज़ (smartphone display size)

बेनिफिट: आप अपने फोन को एक हाथ से इस्तेमाल कर पाते हैं या आपको इस काम के लिए दो हाथों की जरूरत पड़ती है, इस बात के बीच में अंतर।

यह क्या है: एक डिस्प्ले साइज़ ही इस बात को सुनिश्चित करता है कि आपका स्मार्टफोन कितना बड़ा होगा। इसे हम इंच में मापते हैं। जितनी बड़ी डिस्प्ले, उतना बड़ा फोन, हालाँकि सबसे ज्यादा जरुरी है, इसके व्युविंग एक्सपीरियंस को ध्यान में रखना। स्मार्टफोंस को अलग अलग डिस्प्ले साइज़ में लॉन्च किया जाता है, यह उन सभी पर निर्भर करता है, जो स्मार्टफोन को खरीदते हैं कि आखिर उनका अपने फोन के साथ इस्तेमाल क्या और कैसा है। अगर अपने अनुसार, यह जानना चाहते हैं कि आपके लिए कौन सा डिस्प्ले बेटर रहेगा, तो यहाँ क्लॉक करें। 

smartphone display

1. 5-इंच या उससे कम 

जो स्मार्टफोंस 5-इंच की डिस्प्ले या उससे कम की डिस्प्ले के साथ आते हैं, जैसे अगर उदाहरण के लिए देखें तो iPhone SE उन लोगों के लिए सही है, जिनके हाथ छोटे हैं, और उनके लिए भी जो एक हाथ से अपने फोन को इस्तेमाल करना चाहते हैं। छोटी डिस्प्ले बैटरी की खपत को भी कम करती है। यह कारण है कि 5-इंच या उससे कम की डिस्प्ले के साथ आने वाले फोंस में आपको आमतौर पर एक छोटी बैटरी देखने को मिलती है। यह भी पढ़ें: महंगे से महंगे फोन मिल रहे हैं सस्ते में, Amazon पर शाओमी की इस सेल में ढेरों डील्स

2. 5.5-6-इंच 

5.5-6-इंच की डिस्प्ले उन लोगों के सही कही जा सकती है, जो अपने फोन में ज्यादा सोशल मीडिया से जुड़ी गतिविधियों में रहते हैं, ज्यादा फोटो आदि खींचते हैं, और अपना ज्यादा काम स्मार्टफोन पर ही करना चाहते हैं। इस तरह की डिस्प्ले पर विडियो आदि देखना भी अपने आप में अच्छा एक्सपीरियंस आपको प्रदान करता है। इस समय इस डिस्प्ले साइज़ वाले स्मार्टफोंस को ही बाजार में बड़े पैमाने पर देखा जा रहा है। यह डिस्प्ले भी बैटरी पर ज्यादा दबाव नहीं डालती है। 

3. 6.5-इंच और उससे ज्यादा 

इस तरह की डिस्प्ले साइज़ वाले स्मार्टफोन उन लोगों के लिए ज्यादा बेहतर कहे जा सकते हैं, जो अपने फोन में ज्यादा गेमिंग या कंटेंट की खपत करते हैं। इस तरह की डिस्प्ले के साथ आने वाले स्मार्टफोन हैवी भी कहे जा सकते हैं। इसके अलावा इनके साथ आपको एक बड़ी बैटरी भी देखने को मिलती है। इन फोंस को आप आमतौर पर दो हाथों से ही इस्तेमाल कर सकते हैं। यह भी पढ़ें: बस Rs 500 देंगे और JioPhone Next हो जाएगा आपका, क्या है फंडा?

आस्पेक्ट रेश्यो 

बेनिफिट: एक छोटी बॉडी में एक बड़ी स्क्रीन को शामिल करना।

यह क्या है: आस्पेक्ट रेश्यो एक विशेष स्क्रीन आकार दिए गए, प्रदर्शन की कुल लंबाई और चौड़ाई को  निर्धारित करता है। पिछले साल तक, सभी फोन 16:9 आस्पेक्ट रेश्यो के साथ आते थे, लेकिन अब हमारे पास 18:9 और 19:9 है, जो स्मार्टफोन की चौड़ाई को कम करता है, लेकिन फोन को आसान बनाने के लिए लंबाई को बढ़ाता है।

विसुअल टिप: दो फोंस जो 5।5-इंच की डिस्प्ले के साथ आते हैं, लेकिन दोनों में से एक को 16:9 और दूसरे को 18:9 आस्पेक्ट रेश्यो के साथ लॉन्च किया गया है, यहाँ हम आपको यह बताना चाहते हैं कि एक हाथ से इस डिवाइस को इस्तेमाल करना कितना आसान नहीं है।

पैनल टाइप

बेनिफिट: वाइब्रेंट रंग, बेहतर बैटरी लाइफ और इमर्सिव व्युविंग एंगल अनुभव सभी प्रदर्शन फलक के प्रकार पर निर्भर करते हैं। यह भी पढ़ें: IPL 2021 फिर से हो रहा है शुरू, तारीख, स्कोर से लेकर जानें कहां और कैसे देख सकते हैं सभी मैच

यह क्या है: आधुनिक स्मार्टफोन प्रदर्शन के लिए आईपीएस-एलसीडी या ओएलडीडी पैनलों का उपयोग किया जा रहा है। आईपीएस-एलसीडी उन लोगों के लिए बहुत बढ़िया है जो अपने फोन पर बहुत सारे फोटो संपादन करते हैं, इसके लिए इसकी इसकी रंग सटीकता को धन्यवाद देना चाहिए, लेकिन यदि आप जीवंत रंग, एचडीआर वीडियो और बेहतर बैटरी लाइफ चाहते हैं, तो ओएलडीडी पैनल वाला एक स्मार्टफोन बेहतर विकल्प होगा। डिस्प्ले की चमक रेटिंग के लिए भी देखें, जो प्रदर्शन के लिए कम से कम 150 नाइट (या 500 लुमेन) होनी चाहिए और जो चमकदार मध्य-दिन सूरज के नीचे सुगम हो। आईपीएस पैनल और ओएलडीडी दोनों डिस्प्ले अच्छे देखने वाले कोण प्रदान करते हैं, इसलिए ऐसा कुछ नहीं है जिसके बारे में आपको चिंता करनी चाहिए।

प्रो टिप: AMOLED, Super AMOLED या Optic AMOLED आदि सभी OLED तकनीकी के ही अलग अलग वैरिएंट हैं, हालाँकि इन सभी में कुछ न कुछ छोटे अंतर जरुर देखने को मिल जाते हैं। हालाँकि सभी में आपको एक जैसा ही एक्सपीरियंस मिलता है। 

रेजोल्यूशन

बेनिफिट: जितनी ज्यादा रेजोल्यूशन उतना ही शार्प इमेज

यह क्या है: रेजोल्यूशन एक संख्या है जो आपको बताती है कि प्रदर्शन पर कितने पिक्सेल हैं, आमतौर पर इसे चौड़ाई x ऊंचाई के संदर्भ में मापा जाता है। पिक्सल की उच्च संख्या उच्च स्पष्टता या तीखेपन को प्रदान करती है। कभी-कभी, आप इसे एचडी-रेडी (720 पी), एचडी (1080 पी) या क्यूएचडी (1440 पी) के रूप में भी देखेंगे। रेजोल्यूशन जितना अधिक होगा, फोन उतना ही महंगा होगा। यदि रेजोल्यूशन के सामने एक + का प्रतीक है, तो इसका मतलब है कि फोन में 18:9 आस्पेक्ट रेश्यो के साथ आता है। अधिकांश उपयोग मामलों के लिए, एक फुल एचडी डिस्प्ले काफी अच्छी कही जा सकती है क्योंकि यह अच्छी जानकारी और बैटरी जीवन के बीच सही संतुलन को रोकती है। यह भी पढ़ें: एक से बचने के लिए सभी यूजर्स से नहीं छुपाना पड़ेगा WhatsApp पर लास्ट सीन

प्रो टिप: ज्यादा रेजोल्यूशन वाली डिस्प्ले कम रेजोल्यूशन वाली डिस्प्ले के मुकाबले ज्यादा बैटरी की खपत करती है। 

HDR बनाम नॉन HDR

बेनिफिट: ऐसा एक्सपीरियंस जो आपने कभी भी पहले नहीं पाया होगा।

यह क्या है: आपके स्मार्टफ़ोन के प्रदर्शन द्वारा कितना रंग प्रदर्शित किया जा सकता है उसे कलर स्पेस कहा जाता है। अधिकांश गैर-एचडीआर फोन किसी भी प्रकार की फिल्म का आनंद लेने के लिए काफी अच्छे हैं, लेकिन यदि आप एक बेहतर दृश्य अनुभव चाहते हैं, तो आपको एक एचडीआर-सक्षम डिस्प्ले वाले स्मार्टफ़ोन की ओर जाना चाहिए, यह आपको एक बेहतर अनुभव प्रदान कर सकते हैं।

प्रो टिप: एचडीआर डिस्प्ले से अधिक लाभ प्राप्त करने के लिए, आपको एचडीआर सामग्री तक पहुंच की आवश्यकता होगी जो वर्तमान में नेटफ्लिक्स और प्राइम वीडियो जैसी विभिन्न स्ट्रीमिंग सेवाओं के माध्यम से उपलब्ध है।

फोन में रैम (Phone RAM)

बेनिफिट: ज्यादा रैम तो ज्यादा बड़े पैमाने पर मल्टी-टास्किंग 

यह क्या है: यहाँ आप रैम को हाथों के समान मान सकते हैं। जितनी ज्यादा रैम होगी, उतना ही सक्षम आपका फोन होगा। रैम को आमतौर पर किसी भी स्मार्टफोन में GB में मापा जाता है। आप एक 1GB, 2GB, 3GB। 4GB, 6GB या ज्यादा से ज्यादा 8GB रैम वाला स्मार्टफोन खरीद सकते हैं। अगर आप जानना चाहते हैं कि कितनी रैम वाला फोन आपके लिए सही रहेगा, तो आप नीचे इसके बारे में जान सकते हैं। यह भी पढ़ें: Airtel का सबसे तगड़ा ऑफर! तीन दमदार प्लान के साथ देगा Jio और Vi को टक्कर, हर रोज़ 3GB डाटा और...

phone RAM

1. 1 या 2GB रैम

स्मार्टफोन जिनके पास 2 जीबी या कम रैम है उन उपयोगकर्ताओं के लिए आदर्श हैं जो कॉल और संदेशों को बनाने / प्राप्त करने के अलावा अपने फोन से ज्यादा कुछ नहीं चाहते हैं। ये फोन मुश्किल से टेम्पल रन जैसे लोकप्रिय खेल चलाएंगे और बहु-कार्यशीलता (मल्टी-टास्किंग) को संभालने में सक्षम नहीं होंगे।

2. 3 या 4GB रैम 

3-4 जीबी रैम वाले स्मार्टफोन उन उपयोगकर्ताओं के लिए बहुत अच्छे हैं जो बड़े पैमाने पर सोशल मीडिया का इस्तेमाल करते हैं, बहुत सारी तस्वीरें लेते हैं और अपने फोन पर बहुत सारी वीडियो सामग्री का उपभोग करते हैं। आप इन उपकरणों, प्रोसेसर परमिट गेमिंग का कुछ आनंद भी ले सकते हैं। 3 से 4जीबी रैम वाले फोन मल्टी-टास्किंग को आसानी से संभाल सकते हैं, यानी, आप एक दर्जन से अधिक ब्राउज़र टैब और अपने ई-मेल और मैसेजिंग क्लाइंट के बीच स्विच करने में सक्षम बन सकते हैं। 

3. 6GB रैम 

यह पावर-यूजर के लिए है, जिनके लिए पूर्ण गति की आवश्यकता है और प्रदर्शन में थोड़ी सी गिरावट भी नहीं खड़े हो सकते हैं। 6 जीबी रैम वाले फोन लाइन प्रदर्शन के शीर्ष पर पहुंचे हैं, भारी ड्यूटी गेमिंग के लिए आदर्श हैं या ब्राउज़िंग, फोटो संपादन, वीडियो प्लेबैक इत्यादि के लिए एक ही समय में कई ऐप्स चलाने के लिए भी। यह भी पढ़ें: WhatsApp Alert: दमदार फीचर को बहुत जल्द ला रहा है आपका पसंदीदा प्लेटफॉर्म

4. 8GB रैम 

हालांकि कुछ स्मार्टफ़ोन 8 जीबी रैम के साथ आते हैं, वर्तमान में कोई उपयोग-परिदृश्य परिदृश्य नहीं है जहां ऐप्स बहुत अधिक RAM बनाने में सक्षम हैं। इस बिंदु पर, 8 जीबी रैम वास्तविक उपयोगिता की तुलना में शो के लिए अधिक है, हालांकि, यह भविष्य में आपके डिवाइस को प्रमाणित करता है।

फोन स्टोरेज (Phone storage) 

बेनिफिट: जितनी ज्यादा स्टोरेज होगी, उतनी ही ज्यादा आप अपने फोन में गेम, एप्स, तस्वीरें, और विडियो स्टोर कर सकते हैं।

यह क्या है: संग्रहण (स्टोरेज) आपके स्मार्टफ़ोन में स्थान की मात्रा है और वह स्थान जीबी में भी मापा जाता है। जितना अधिक संग्रहण स्थान फोन आता है, उतना अधिक सामान जो आप अपने फोन पर सहेज सकते हैं। अगर आप ऐसे व्यक्ति हैं जो अपने फोन पर बहुत सारे संगीत और फोटो स्टोर करते हैं, तो आपको कम से कम 32 जीबी ऑन-बोर्ड स्टोरेज मिलना चाहिए, हालांकि आपको 64GB की सलाह दी जाती है। हालाँकि यदि आप ऐसे व्यक्ति हैं जो केवल लोगों के संपर्क में रहने के लिए अपने फोन का उपयोग करते हैं, अधिक ऐप्स या गेम स्टोर नहीं करते हैं, तो आपका काम 16 जीबी ऑन-बोर्ड स्टोरेज में भी चल जाना चाहिए। 

प्रो टिप: यदि आप बहुत सारी तस्वीरें लेते हैं, या गाने / फिल्में / गेम्स डाउनलोड करना पसंद करते हैं, तो आपको केवल उच्च भंडारण स्थान के साथ फोन खरीदने पर विचार करना चाहिए, हालाँकि इसमें  माइक्रोएसडी कार्ड स्लॉट हो तो यह सबसे बढ़िया बात है। 

स्टोरेज में बढ़ोत्तरी 

बेनिफिट: आपको कम स्टोरेज की समस्या से निजात दिलाता है।

यह क्या है: अपने घर में एक कमरे के आकार को बढ़ाने के रूप में विस्तारणीय भंडारण के बारे में सोचें। आपको और जगह मिलती है, जिसका उपयोग आप और भी चीजों को स्टोर करने के लिए कर सकते हैं। जब आप अपने स्मार्टफ़ोन में माइक्रोएसडी कार्ड जोड़ते हैं तो स्टोरेज स्पेस का विस्तार होता है, लेकिन सभी स्मार्टफ़ोन माइक्रोएसडी कार्ड स्लॉट के साथ नहीं आते हैं। उदाहरण के लिए, आईफोन और यहां तक कि वनप्लस 6 में माइक्रोएसडी कार्ड स्लॉट नहीं है, जिसका अर्थ है कि आप अपनी स्टोरेज स्पेस नहीं बढ़ा सकते हैं। हम माइक्रोएसडी कार्ड पर ऐप्स इंस्टॉल करने की अनुशंसा नहीं करेंगे, लेकिन आप निश्चित रूप से अपनी पसंदीदा तस्वीरें, धुनों या फिल्मों को संग्रहीत करने के लिए अतिरिक्त स्थान का उपयोग कर सकते हैं। यह भी पढ़ें: Free में उठाना चाहते Hotstar की मूवी और शोज का मज़ा, ये रहा एक साल फ्री में चलाने का तरीका

प्रो टिप: किसी भी माइक्रोएसडी कार्ड को खरीदने से पहले इस बात को सुनिश्चित कर लें कि आपके फोन में कितनी ज्यादा क्षमता को आप सपोर्ट करवा सकते हैं।

फोन बैटरी (Phone battery) 

बेनिफिट: ज्यादा बैटरी क्षमता, इसका मतलब है कि आप अपने फोन ज्यादा लम्बे समय तक इस्तेमाल कर सकते हैं।

यह क्या है: बैटरी क्षमता आमतौर पर एमएएच में मापी जाती है और ज्यादा  एमएएच, बेहतर होता है। उच्च बैटरी क्षमता आमतौर पर एक अच्छा संकेत है कि आप इसे रिचार्ज करने की आवश्यकता के बिना अपने फोन का कितना समय उपयोग कर सकेंगे। हालांकि, बैटरी कितनी देर तक चलती है प्रोसेसर, डिस्प्ले के प्रकार और रिज़ॉल्यूशन और यहां तक कि इस्तेमाल किए गए रेडियोज पर निर्भर करती है। उपरोक्त उल्लिखित कारकों में कोई अंतर होने पर एक ही बैटरी क्षमता वाले दो फोन अलग-अलग बैटरी लाइफ संख्या दे सकते हैं।

प्रो टिप: बड़ी बैटरी का आमतौर पर मतलब बड़े स्मार्टफोंस से है।

phone battery

वायरलेस चार्जिंग 

बेनिफिट: अपने फोन को टेबल पर रखने और इसे चार्ज करने की सुविधा। अमूल्य!  

यह क्या है: कुछ आधुनिक स्मार्टफोन पारंपरिक चार्जर में प्लग किए बिना चार्ज करने की क्षमता के साथ आना शुरू हो गए हैं। बस वायरलेस चार्जर पर फोन रखें और यह चार्ज करना शुरू कर देगा। हालांकि, वायरलेस चार्जर का सबसे बड़ा लाभ केबलों से निपटने के लिए नहीं है।

प्रो टिप: वायरलेस चार्जिंग अभी भी एक नई तकनीक है और पारंपरिक चार्जर से आपके फोन को बहुत धीमी चार्ज करेगी। वायरलेस चार्जिंग केवल तभी समझ में आती है जब आपके पास चार्जर पर फोन लगाए जाने पर कई घंटे हो।

फ़ास्ट चार्जिंग

बेनिफिट: अपने फोन को मिनटों में करें चार्ज।

यह क्या है: फास्ट चार्जिंग आपको अपने स्मार्टफोन की बैटरी को अपेक्षाकृत तेज़ी से रिचार्ज करने की अनुमति देता है। भले ही फास्ट चार्जिंग के कई मानक हैं, आम तौर पर वे सभी एक ही परिणाम उत्पन्न करते हैं; 30 मिनट से कम समय में अपनी बैटरी 0 से 50 प्रतिशत चार्ज होना भी इसमें शामिल है। कुछ, जैसे वनप्लस डैश चार्ज बहुत तेज है, जहां यह वनप्लस 6 की 3300 एमएएच बैटरी को एक घंटे से भी कम समय में 0 से 100 तक चार्ज कर सकता है। डैश चार्ज वनप्लस के लिए अनन्य है, लेकिन यदि आप एक ऐसे फ़ोन की तलाश में हैं जो तेजी से चार्ज कर रहा है, तो "फास्ट चार्ज" के समान ध्वनि विनिर्देशों में शब्दों की तलाश करें। क्वालकॉम का क्विक चार्ज 3।0 बाजार में सबसे आम तेज़ चार्जिंग मानक है। यह भी पढ़ें: Apple ने दी खास सलाह: मान लेंगे तो सालों उठाएंगे फायदा, जानें कैसे

प्रो टिप: अपने फोन को कभी भी पूरी रात के लिए चार्जिंग पर न छोड़े, इसे आपके फोन की बैटरी को बड़ी हानि हो सकती है, इसके अलावा आपको इसे मात्र कुछ समय के लिए ही चर्चा करना चाहिए, जिससे कि यह सही प्रकार से काम कर सके।

प्रोटेक्शन 

बेनिफिट: जब आप गलती से अपने फोन को छोड़ देते हैं तो इसे हानि से बचाने के लिए उचित सुरक्षा।

यह क्या है: डिस्प्ले काफी नाजुक होती हैं, इसलिए स्मार्टफोन निर्माताओं ने इसके ऊपर कांच की अतिरिक्त सुरक्षात्मक परत डाली है। गोरिल्ला ग्लास सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाने वाला सुरक्षात्मक ग्लास है और इसके लिए संख्या जितनी अधिक है (गोरिल्ला ग्लास 5 बनाम गोरिल्ला ग्लास 3), उतना ही यह सुरक्षा को मजबूत बनाता है। हालांकि, गोरिल्ला ग्लास एकमात्र प्रकार का सुरक्षात्मक ग्लास नहीं है। डिस्प्ले पर सुरक्षा को हाइलाइट करने के लिए निर्माता असही ग्लास या "बॉन्डेड ग्लास" जैसे शब्दों का भी उपयोग कर सकते हैं।

प्रो टिप: गोरिल्ला ग्लास या समकक्ष आपके स्मार्टफोन को क्षति से प्रतिरक्षा नहीं बनाता है, इसलिए सावधान रहें।

विसुअल टिप: दो स्मार्टफोन एक दूसरे के बगल में मौजूद हैं। एक डिस्प्ले को स्क्रैच किया गया है, और एक को नहीं। जो डिस्प्ले स्क्रैच से बच गई है, उसे हम गोरिला ग्लास कह सकते हैं। यह भी पढ़ें: iPhone 13 Series से लेकर OnePlus 9RT तक ये अपकमिंग फोंस कर देंगे Vivo-Oppo की छूट्टी देखें लिस्ट

डिजाईन

बेनिफिट: एक बेहतर डिजाईन के साथ लॉन्च किया गया स्मार्टफोन ही बाजार में अपनी अलग पहचान बनाता है। 

यह क्या है: एक स्मार्टफोन डिजाइन करना उतना आसान नहीं है जितना कि इसका आकार तय करना। एक स्मार्टफोन के डिजाइन में जाने वाली हर छोटी जानकारी यह बताती है कि इसका उपयोग करना कितना आसान होगा। यह एक सामान्य धारणा है कि धातु का उपयोग करने वाले फोन प्लास्टिक से बने फोन की तुलना में अधिक मजबूत होते हैं, लेकिन यह भी सुनिश्चित करते हैं कि बटन भी एक ही सामग्री से बने होते हैं। यदि आप अपने अगले स्मार्टफ़ोन पर ट्रिगर खींचने से पहले डिज़ाइन के बारे में विचार करने के बारे में अधिक जानना चाहते हैं, तो यहां क्लिक करें।

1. निर्माण सामग्री 

अंगूठे के सामान्य नियम के रूप में, धातु से बना एक स्मार्टफोन प्लास्टिक या पॉली कार्बोनेट से बने एक से अधिक टिकाऊ होगा। ग्लास निर्माण सामग्री का सबसे कम टिकाऊ विकल्प है, लेकिन यह आमतौर पर सबसे अच्छा दिखता है, फोन को वायरलेस चार्ज करने की अनुमति देता है। यदि आपकी सर्वोच्च प्राथमिकता दिखती है, तो कांच से बना एक स्मार्टफोन एक प्रमुख टर्नर होगा, लेकिन धातु से बना एक दुर्व्यवहार का सामना करेगा।

2. रंग 

रंग डिजाइन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं, क्योंकि हम में से कई रंगों को अपने व्यक्तित्वों का प्रतिनिधित्व करते हैं। जबकि कई स्मार्टफोन सामान्य सोने, काले और चांदी के रंग विकल्पों की पेशकश करते हैं, हुवावे, ऑनर, सैमसंग और यहां तक कि वनप्लस जैसे ब्रांड रंग ताल में अधिक सक्रीय रहे हैं। 

3. अर्गोनोमिक्स 

आप आसानी से अपने स्मार्टफोन का उपयोग कर सकते हैं, न केवल आपके हाथ कितना बड़ा है, बल्कि स्मार्टफोन का आकार भी निर्भर करेगा। यदि आप एक ऐसे फोन की तलाश में हैं जो एक हाथ से उपयोग करना आसान है, तो आप उस व्यक्ति को चुनना चाहेंगे जिसमें नया 18:9 आस्पेक्ट रेश्यो प्रदर्शित हो।

4. डस्ट और वाटर रेसिस्टेंट 

आम तौर पर आईपी रेटिंग के रूप में जाना जाता है, प्रवेश सुरक्षा रेटिंग आपको संकेत देती है कि खराब होने के बिना आपका फोन कितना पानी संभाल सकता है। एक आईपी 68 रेटिंग धूल और पनडुब्बी से सबसे अच्छी सुरक्षा प्रदान करती है, जबकि आईपी 67, आईपी 66 और आईपी 65 हल्की वर्षा या पानी की आकस्मिक गति से पर्याप्त सुरक्षा प्रदान करते हैं।

कैमरा 

बेनिफिट: कैमरा जितना बेहतर होगा, उतनी ही बेहतर तस्वीरें आप खिंच सकते हैं, चाहे कहीं भी हों, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता।

यह क्या है: कैमरा को स्मार्टफोन में आते हुए आज एक लम्बा समय बीत गया है, और आजकल के दौर में एक स्मार्टफोन में मौजूद कैमरा उतना ही जरुरी भी हो गया है। ऐसा भी कहा जा सकता है कि एक स्मार्टफोन के लिए कैमरा आज एक सबसे जरुरी अंग बन गया है, अर्थात् इसे एक जरुरी फीचर कहा जा सकता है। केई पहलूओं से मिलकर एक स्मार्टफोन का कैमरा ज्यादा बेहतर बन जाता है। आइये अब डिटेल में जानते हैं कि आखिर ऐसे कौन से पहलू होते हैं। यह भी पढ़ें: बेस्ट फोंस अंडर 35000 इन इंडिया

रेजोल्यूशन

बेनिफिट: रेजोल्यूशन = डिटेल 

यह क्या है: रेजोल्यूशन को उस बात से आँका जा सकता है कि आपके कैमरा में कितने पिक्सल मौजूद हैं। इसे हम मेगापिक्सल के तौर पर भी जानते हैं। इनका काम सीन को रिकॉर्ड करना है। 

मिथ: ज्यादा मेगापिक्सल = बेहतर तस्वीर 

सच: आप ऐसा सोच सकते है कि आपके फोन के कैमरा में जितने ज्यादा मेगापिक्सल होंगे, आपका फोन इतनी ही बढिया तसवीरें लेने में सक्षम होगा, हालाँकि यह सच नहीं है। किसी भी कैमरा सेंसर की मेगापिक्सल को ग्रहण करने की एक लिमिट होती है, जिससे वह अपना काम करते हैं। मान लीजिये कि आप एक ऐसी जगह काम करते हैं, जहां जगह तो मात्र 3 लोगों की है लेकीन वहां 10 लोग हैं। आप इसी से अंदाज़ा लगा सकते हैं कि हम क्या कह रहे हैं। 12-14 मेगापिक्सल के बीच आने वाले सेंसर ज्यादा बढ़िया परफॉरमेंस देते हैं। 

लेंस 

बेनिफिट: आपकी तस्वीर को क्रिस्टल क्लियर और हेज़ फ्री बनाये

यह क्या है: लेंस कैमरा सेंसर पर प्रकाश ध्यान केंद्रित करने में मदद करता है ताकि चीजें तेज ध्यान में हों। स्मार्टफोन कैमरे आमतौर पर प्लास्टिक लेंस का उपयोग करते हैं, लेकिन अधिक महंगे कैमरे ग्लास लेंस का उपयोग करते हैं, जो प्लास्टिक लेंस से बेहतर होते हैं। कभी-कभी, आप कैमरे पर लीका ब्रांडिंग के ज़ीस को भी देखेंगे, इस मामले में आप आश्वस्त रह सकते हैं कि आपको सबसे अच्छा सर्वश्रेष्ठ मिल रहा है।

अपर्चर

बेनिफिट: हमेशा लो लाइट में बढ़िया तस्वीरें लेने में जरुरी 

यह क्या है: लेंस के उद्घाटन के आकार को एपर्चर कहा जाता है, जिसे एफ / 1.4 या एफ / 2.0 या एफ / 2.8 के रूप में लिखा जाता है और इसी तरह। बस लेंस की एपर्चर संख्या की तलाश करें। जितना छोटा होगा उतना ही हल्का कैमरा कैमरे में चलेगा, जिससे कम हल्का प्रदर्शन बेहतर होगा। उदाहरण के लिए, 1.4 का एपर्चर 1.8 से बेहतर है, जो 2.4 से बेहतर है।

विसुअल टिप: प्रकाश की मात्रा के साथ एपर्चर खोलने दिखाएं। सुनिश्चित करें कि एपर्चर संख्याएं भी हैं।

फोकस टिप

बेनिफिट: यह सुनिश्चित करना कि आप उस अनमोल शॉट को कभी याद न करें क्योंकि फोकस बहुत धीमा था। 

यह क्या है: फोकस करने वाला सिस्टम यह सुनिश्चित करता है कि आप अपने विषय की धुंधली तस्वीरों को समाप्त न करें। वहां कई फोकस करने वाली प्रौद्योगिकियों में से, ड्यूल पिक्सेल एएफ न केवल सबसे तेज़ है, बल्कि अच्छी रोशनी और यहां तक कि कम रोशनी में भी सबसे विश्वसनीय है। फेज डिटेक्ट ऑटो फोकस, पीडीएएफ के रूप में भी जाना जाता है, यह भी बहुत अच्छा और भरोसेमंद है। इन दो सुविधाओं में से किसी एक के साथ एक स्मार्टफोन की तलाश करें।

प्रो टिप: कैमरे को फोकस करने के लिए थोड़ी सी रोशनी की आवश्यकता होती है, इसलिए यदि आपके स्मार्टफ़ोन में दोहरी पिक्सेल एएफ या पीडीएफ़ नहीं है, तो भी आप अपने विषय पर कुछ प्रकाश डालने और फिर उन पर ध्यान केंद्रित करके ध्यान केंद्रित कर सकते हैं।

स्टेबिलाइजेशन 

बेनिफिट: शॉट हाथ से आयोजित होने पर भी कम रोशनी और स्थिर वीडियो में धुंध मुक्त छवियां प्राप्त करें।

यह क्या है: फ़ोटो या वीडियो लेते समय, हमारे हाथ कभी-कभी बहुत कमजोर हो सकते हैं। ऑप्टिकल और इलेक्ट्रॉनिक छवि स्थिरीकरण उस के लिए क्षतिपूर्ति में मदद करता है, जिसके परिणामस्वरूप धुंध मुक्त छवियां होती हैं। वर्तमान में, ऑप्टिकल छवि स्थिरीकरण (ओआईएस) को इलेक्ट्रॉनिक छवि स्थिरीकरण (ईआईएस) से बेहतर माना जाता है, इसलिए यदि आपका बजट अनुमति देता है, तो एक स्मार्टफोन चुनें जिसका कैमरा ओआईएस है। यह भी पढ़ें: एक बार रिचार्ज कराने पर 2 साल तक चलता है Jio का यह प्लान, बहुत सारे डेटा के साथ फ्री कॉलिंग भी

प्रो टिप: ऑप्टिकल छवि स्थिरीकरण ईआईएस से बेहतर काम करता है, लेकिन दोनों का संयोजन सबसे अच्छा है।

ड्यूल कैमरा

बेनिफिट: अधिक कैमरे आपको अपनी सही यादों को पकड़ने के लिए और अधिक तरीके देते हैं।

यह क्या है: दो कैमरे जोड़कर, फोटोग्राफी का अनुभव काफी सुधार हुआ है। दोहरी कैमरा फोन आमतौर पर दूसरे लेंस के प्रकार के आधार पर दो प्रकार के होते हैं; एक जो आपको अतिरिक्त फोकल लम्बाई (टेलीफोटो या अल्ट्रावाइड) देता है और दूसरा जिसमें मोनोक्रोम सेंसर होता है। यदि आप काले और सफेद फोटोग्राफी में हैं, तो मोनोक्रोम माध्यमिक सेंसर वाले कैमरे बहुत अच्छे हैं, लेकिन दुनिया के दो अलग-अलग विचारों वाले दो कैमरों के साथ बेहतर चित्रों के परिणामस्वरूप अधिक संभावना है।

ट्रिपल कैमरा या अधिक कैमरा

बेनिफिट: आपको ज़ूम और तेज छवियों की क्षमता देता है।

यह क्या है: एक ट्रिपल-कैमरा सेटअप आपको सबसे लचीलापन देता है, जो ज़ूम, चौड़े कोण लेंस और यहां तक कि कलात्मक फ़ोटो के लिए एक काला और सफेद सेंसर प्रदान करता है। एक दोहरी कैमरा स्मार्टफोन पर विचार करते समय आप संघर्ष करते हैं तो यह जवाब है।

पोर्ट्रेट मोड 

बेनिफिट: अपने स्मार्टफोन कैमरे से डीएसएलआर जैसी पोर्ट्रेट प्राप्त करना।

यह क्या है: पोर्ट्रेट मोड, या बोके मोड एक प्रकार का फोटोग्राफी है जो व्यक्ति को तेज ध्यान में रखते हुए पृष्ठभूमि को धुंधला करता है। अच्छे चित्र शॉट्स के लिए, कैमरे को दो-लेंस सेटअप की आवश्यकता होती है जो आपको अद्भुत चित्र फ़ोटो देने के लिए सॉफ़्टवेयर के साथ मिलकर काम करता है। चूंकि यह सुविधा हार्डवेयर की तुलना में सॉफ़्टवेयर पर अधिक निर्भर करती है, इसलिए आपके पास दोहरी कैमरा सेटअप की तरह कोई फर्क नहीं पड़ता। वास्तव में, Google पिक्सेल 2 केवल एक कैमरा होने के बावजूद अद्भुत चित्र मोड फ़ोटो प्राप्त करता है और यह सॉफ़्टवेयर की वजह से है।

सेल्फी कैमरा 

बेनिफिट: किसी की मदद के बिना अपनी तस्वीरों को लेना आसान बनाना।

यह क्या है: चूंकि फ्रंट फेस कैमरा आपके बारे में है और आपको अच्छा लग रहा है, इसलिए वे सभी कुछ सुंदरता सुविधाओं के साथ आएंगे जो त्वचा के दोषों को दूर कर सकते हैं और यहां तक कि आपका चेहरा चमक भी सकते हैं। यदि आप उपभोक्ता के प्रकार हैं जो स्वयं कैमरे को बैक कैमरा के रूप में महत्वपूर्ण मानते हैं, तो सुनिश्चित करें कि आप ओप्पो और विवो फोन द्वारा पेश किए गए सामने वाले फ्लैश के लिए नजर रखें। कई स्मार्टफ़ोन अब सामने वाले कैमरे का उपयोग करके पोर्ट्रेट मोड भी प्रदान करते हैं, जो आपको एक अतिरिक्त लाभ मिलता है।

प्रो टिप: कभी-कभी सौंदर्यीकरण फ़िल्टर त्वचा को प्लास्टिक की तरह दिख सकते हैं, इसलिए सुनिश्चित करें कि आप सही सेटिंग का उपयोग करें। यह भी पढ़ें: पोर्ट्रोनिक्स ने पेश किया वायर्ड सबवूफर से लैस साउंड बार 'प्योर साउंड 101'

विडियो मोड्स 

यह क्या है: यादें अमूल्य हैं, इसलिए आप यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि वे सबसे अच्छे तरीके से कब्जे में हैं। हालांकि हम सभी उच्च रिज़ॉल्यूशन वीडियो चाहते हैं, ऐसे कुछ अन्य पहलू हैं जो आपके उपयोग के लिए स्मार्टफ़ोन आदर्श की वीडियो क्षमताओं को बनाने के लिए एक साथ आते हैं।

रेजोल्यूशन 

बेनिफिट: ज्यादा रेजोयुशन रिकॉर्डिंग = शार्पर क्लियर विडियो 

यह क्या है: वीडियो 4K, 1080p और 720p में दर्ज किया जा सकता है। उच्च रिज़ॉल्यूशन का मतलब है कि आप गुणवत्ता खोने या स्क्रीन पर अनाज को देखे बिना बड़ी स्क्रीन पर इसे चला सकते हैं।

प्रो टिप: आपके द्वारा रिकॉर्ड किए गए वीडियो के संकल्प जितना अधिक होगा, उतना अधिक स्थान आपके स्टोरेज पर उपभोग करेगा, इसलिए उस पर नजर रखें।

फ्रेम रेट

बेनिफिट: ज्यादा फ्रेम रेट = स्मूदर प्लेबैक 

यह क्या है: जब आप वीडियो शूट करते हैं तो फ़्रेम-दर एक सेकंड में कैप्चर की गई तस्वीरों की संख्या को संदर्भित करता है। वीडियो, दिन के अंत में, बस एक बड़ी संख्या में फ़ोटो रखी जाती है और वास्तव में तेज़ी से खेली जाती है। न्यूनतम फ्रेम दर प्रति सेकंड 24 फ्रेम (या 24fps) है और 60 एफपीएस जितनी अधिक हो सकती है। जब आप तेजी से चलती कार्रवाई को पकड़ने की कोशिश कर रहे हों तो उच्च फ्रेम दर आसान हो जाएंगी। उदाहरण के लिए, यदि आप 60fps और 24 fps में तेजी से चलने वाले एक्शन अनुक्रम रिकॉर्ड करते हैं, तो 60fps वीडियो अधिक सुचारु रूप से और 24fps समकक्ष वापस खेलेंगे। उच्च फ्रेम दर इसलिए आपको चिकनी वीडियो देते हैं। इसके अलावा, धीमे गति वाले वीडियो के साथ इसे भ्रमित न करें, जिसे हम आगे चर्चा करते हैं।

स्लो मो या स्लो मोशन 

बेनिफिट: वास्तविक वीडियो शूट करें जो धीमे समय में दिखाई देते हैं।

यह क्या है: सुपर धीमी गति वीडियो मूल रूप से वीडियो है जिसे बहुत अधिक फ्रेम दर पर 180, 240 या यहां तक कि एक विशाल 960 एफपीएस पर गोली मार दी गई है। जब आप ऐसे वीडियो चलाते हैं, तो उनमें से कार्रवाई बहुत धीमी गति से चलती है जिससे आप अपनी सारी महिमा में एक क्षणिक क्षण का आनंद ले सकते हैं। आप अपने प्यारे पालतू जानवर को कमरे में चल रहे हैं या पानी के टपकने को सिनेमाई प्रभाव के लिए एक पुडल में पकड़ सकते हैं।

ऑपरेटिंग सिस्टम 

बेनिफिट: आप अपने फोन से कितना संतुष्ट हैं, यह इस बात पर निर्भर करता है कि आपने किस ऑपरेटिंग सिस्टम का चुनाव किया है। 

यह क्या है: सभी स्मार्टफोन या तो एंड्रॉइड या आईओएस हैं। अनगिनत एंड्रॉइड फोन हैं, प्रत्येक हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर दोनों के लिए अपनी अनूठी विशेषताओं की पेशकश करता है। कस्टम एंड्रॉइड संस्करण अतिरिक्त कार्यक्षमता के साथ आ सकते हैं जो स्टॉक एंड्रॉइड में गायब हो सकते हैं जैसे विषयों को लागू करने या आइकन को कस्टमाइज़ करने में सक्षम होना, लेकिन वे आपके प्रोसेसर और रैम पर भी अधिक मांग कर सकते हैं, फोन को धीमा कर सकते हैं। यदि आप सबसे अच्छा प्रदर्शन चाहते हैं, तो एक स्मार्टफोन खरीदें जो स्टॉक एंड्रॉइड के साथ आता है जैसे कि Google पिक्सेल या नोकिया स्मार्टफोन।

प्रो टिप: स्टॉक एंड्राइड किसी भी स्मार्टफोन में एंड्राइड का ऐसा एक वर्जन है, जो आपके फोन को स्लो नहीं करता है। यह इतना प्रभावी है कि अगर आप अपने फोन को लम्बे समय तक भी इस्तेमाल कर लें तो भी यह स्लो नहीं होता है। 

कस्टम एंड्राइड UI

बेनिफिट: कुछ अतिरिक्त फीचर जो स्टॉक एंड्राइड का हिस्सा नहीं हैं। 

यह क्या है: जहां गूगल स्टॉक एंड्राइड को इस्तेमाल करता है, वहीँ अन्य मोबाइल निर्माता जैसे Huawei, सैमसंग और अन्य कई स्टॉक एंड्राइड को इस्तेमाल करके उसमें एक कस्टम लेयर ऐड कर देते हैं। इसी कारण हुवावे के एंड्राइड वर्जन को EMUI कहा जाता है और इसके अलावा सैमसंग के एंड्राइड वर्जन को सैमसंग एक्सपीरियंस कहते हैं। इसके अलावा कई अन्य कंपनियां भी भी कुछ ऐसा ही करती हैं। 

एंड्राइड गो 

बेनिफिट: आजकल लो-एंड स्मार्टफोंस भी एंड्राइड पर आसानी से काम करते हैं।

यह क्या है: गूगल ने खासतौर पर लो-एंड स्मार्टफोंस, ऐसे स्मार्टफोंस जिन्हें 1GB रैम या उससे कम के साथ लॉन्च किया गया है के लिए एंड्राइड का एक हल्का वर्जन निर्मित किया है, जिसे एंड्राइड गो नाम दिया गया है। सबसे ख़ास बात यह भी है कि यह एंड्राइड Oreo को भी सपोर्ट करता है, और इसमें आपको वैसा ही एक्सपीरियंस मिलता है, जैसा एक हाई-एंड डिवाइस में, अर्थात् कम पॉवरफुल स्मार्टफोन्स में यह प्रभावी है। 

एंड्राइड वन 

यह क्या है: एंड्राइड वन (android  one) एक प्रोग्राम है, जहां गूगल इस बात को सुनिश्चित करता है कि हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर में सही समन्वय हो। इसके माध्यम से यूजर को एंड्राइड का बेस्ट एक्सपीरियंस मिलता है। 

प्रो टिप: जहां एंड्राइड गो 1GB और उससे कम रैम वाले स्मार्टफोंस पर काम करता है, वहीँ एंड्राइड वन ज्यादा रैम वाले स्मार्टफोंस पर भी काम करने में सक्षम है। 

फोन की सुरक्षा (phone security)

बेनिफिट: आपके स्मार्टफोन की सही सुरक्षा

यह क्या है: अब ऐसे कई तरीके हैं जिनमें आप अपने फोन को उन लोगों से लॉक कर सकते हैं जो चारों ओर घूमने की कोशिश कर रहे हैं। हालांकि कंपनियां फोन को अनलॉक करने के नए तरीकों का विज्ञापन करती रहती हैं, लेकिन वे सभी सुरक्षित नहीं हैं जितनी वे होनी चाहिए। इसके अतिरिक्त, आप पूरे दिन अपने फोन को अनलॉक करने जा रहे हैं, कुछ शायद सौ गुना से भी अधिक। सुनिश्चित करें कि आप एक फोन चुनते हैं जिसमें आपके लिए सबसे सुविधाजनक अनलॉकिंग विधि है, चाहे वह एक उंगली टैप कर रहा है, पासवर्ड टाइप कर रहा है या फोन को अपने चेहरे पर रख रहा है। यहां बाजार में सभी नई सुरक्षा सुविधाएं हैं, और जो सुरक्षित हैं।

फिंगरप्रिंट सेंसर 

बेनिफिट: सबसे सुरक्षित होने के साथ-साथ अपने स्मार्टफ़ोन को अनलॉक करने का सबसे तेज़ तरीका।

यह क्या है: आपका अनन्य फिंगरप्रिंट आपके फोन को अनलॉक करने की कुंजी है। यह वर्तमान में फोन को अनलॉक करने का सबसे सुरक्षित तरीका है क्योंकि यह आपकी उंगली के अद्वितीय पैटर्न द्वारा उत्पन्न विद्युत संकेत को मापता है। फिंगरप्रिंट स्कैनर (fingerprint scanner) की चाल करना बहुत मुश्किल और महंगा है, जो आपके औसत व्यक्ति के पास पहुंच नहीं है। फिंगरप्रिंट सेंसर या तो स्क्रीन के नीचे या पीछे की तरफ रखा जा सकता है, जिनमें से दोनों समान रूप से सुविधाजनक और उपयोग करने में आसान हैं। हम अभी भी अंडर-डिस्प्ले फिंगरप्रिंट तकनीक उभरने लग रहे हैं, लेकिन अभी यह धीमा है और एक पारंपरिक फिंगरप्रिंट सेंसर के रूप में सटीक नहीं है।

फेस ID/ फेस अनलॉक 

बेनिफिट: अपने फोन को अनलॉक करने के लिए बस थोड़ा उठाएं।

यह क्या है: कुछ फोन आपको उन्हें देखकर अनलॉक करने की अनुमति देंगे। वे आपके चेहरे को स्कैन करके ऐसा करते हैं। फेसआईड ऐप्पल के लिए अनन्य है, जबकि वनप्लस, विवो, ओप्पो जैसे ब्रांड एक ही परिणाम प्राप्त करने के लिए एक अलग विधि का उपयोग कर रहे हैं। चेहरा अनलॉक सुविधाजनक है, लेकिन एक फिंगरप्रिंट का उपयोग करने के रूप में सुरक्षित नहीं है।

प्रो टिप: यह ज्ञात है कि लोग इसे आपके चेहरे पर इंगित करके अपने फोन को अनलॉक कर सकते हैं, ताकि आप इस तकनीक को 100% पर भरोसा करने से पहले अधिक सुरक्षित बन सकें। यह भी पढ़ें: क्या आप भूल गए हैं Wi-Fi पासवर्ड? कोई बात नहीं, ये तरीका सब दिला देगा याद, देखें डिटेल में

कनेक्टिविटी 

यह क्या है: स्मार्टफोन हमारे सभी प्रियजनों को जोड़ने के बारे में हैं। चाहे फोन कॉल, टेक्स्टिंग या यहां तक कि छवियों और वीडियो साझा करना। स्मार्टफ़ोन में अब यह सुनिश्चित करने के कई छोटे तरीके हैं कि आप हमेशा अपने संदेश, दोस्तों या सोशल मीडिया के बारे में सामग्री प्राप्त करने में सक्षम होते हैं। ब्लूटूथ के रूप में ड्यूल सिम स्मार्टफोन अब बहुत आम हैं। आइये जानते हैं कि आखिर कनेक्टिविटी में आपको और क्या क्या देखने को मिलता है। 

1. ड्यूल सिम बनाम हाइब्रिड सिम 

यदि आपके पास दो सिम कार्ड हैं, तो एक ड्यूल सिम स्मार्टफ़ोन एक शानदार विकल्प बनाता है। हालांकि, कुछ स्मार्टफ़ोन में हाइब्रिड सिम कार्ड ट्रे है, जहां माइक्रो 2 डी कार्ड के साथ सिम 2 स्लॉट शेयर स्पेस है। इसका मतलब यह है कि आप या तो एक दूसरा सिम कार्ड या माइक्रोएसडी कार्ड डाल सकते हैं। यदि आपको सिम कार्ड और माइक्रोएसडी कार्ड दोनों का उपयोग करने की आवश्यकता है, तो आपको एक ऐसे फ़ोन को ढूंढना चाहिए जिसमें सभी तीनों के लिए समर्पित स्लॉट हों।

2. ड्यूल VoLTE

एलटीई या वोल्टी पर आवाज तेजी से आवाज कॉलिंग का अगला विकास बन रही है। रिलायंस जियो और देश के कुछ हिस्सों में एयरटेल द्वारा ऑफ़र किया गया, ड्यूल वोल्ट का अनुकूलता महत्वपूर्ण है यदि आप अन्य सिम सक्रिय होने पर कनेक्टिविटी खोने के बिना एक ही समय में अपने जियो और एयरटेल सिम कार्ड दोनों का उपयोग करना चाहते हैं। यदि एक स्मार्टफोन दोहरी वोल्ट का समर्थन करता है, तो स्पेस शीट निश्चित रूप से इसका उल्लेख करेगी क्योंकि यह अभी एक गर्म सुविधा है।

3. NFC

ब्लूटूथ पर दो फोन जोड़े जाने का एनएफसी एक आसान तरीका है। यदि दो फोनों में एनएफसी है, तो उन्हें एक साथ लाने से आपसे पूछेगा कि क्या आप डिवाइस को जोड़ना चाहते हैं। यह ब्लूटूथ स्पीकर या अन्य ब्लूटूथ उपकरणों के साथ अपने स्मार्टफोन को जोड़ने में विशेष रूप से सहायक है। अंत में, ब्लूटूथ जोड़ी के साथ कोई और संघर्ष नहीं!

4. ऑडियो जैक

3.5 मिमी हेडफोन जैक ऑडियोफाइल के लिए स्वर्ण मानक रहा है, लेकिन आजकल, कुछ स्मार्टफोन पोर्ट को छोड़ना शुरू कर रहे हैं। स्मार्टफोन पतले बनाने के लिए, हेडफोन जैक को कई लोगों द्वारा हटाया जा रहा है और इसके बजाय, आपको बॉक्स में 3.5 एमएम कनवर्टर के लिए यूएसबी-सी मिलेगा। यदि आपके पास हेडफ़ोन और इयरफ़ोन का एक बड़ा संग्रह है, या आपको लगता है कि कनवर्टर्स से निपटना एक परेशानी है, तो 3.5 मिमी हेडफ़ोन जैक वाला स्मार्टफ़ोन चिपकाएं।

प्रो टिप: यूएसबी-सी (USB-C) से 3.5 मिमी हेडफोन जैक सार्वभौमिक रूप से संगत नहीं हैं। एक फोन के लिए कनवर्टर दूसरे के साथ काम नहीं कर सकता है, इसलिए यूएसबी-सी ऑडियो प्रवृत्ति को करने से पहले सावधान रहें।

Digit Hindi
Digit Hindi

Email Email Digit Hindi

Follow Us Facebook Logo Facebook Logo

About Me: Ashwani And Aafreen is working for Digit Hindi, Both of us are better than one of us. Read the detailed BIO to know more about Digit Hindi Read More

Web Title: best smartphone guide will help you to buy best mobile phone in 2021
Install App Install App
Tags:
how to buy best smartphon सही स्मार्टफोन कैसे चुनें स्मार्टफोन दिखाइए sabse sasta phone मोबाइल रेट android google कम कीमत के मोबाइल best smartphone in 2021 type c smartphone buying guide अच्छा स्मार्टफोन मोबाइल फोन टच फोन फोन खरीदें
Advertisements

ट्रेंडिंग टेक न्यूज़

Advertisements

LATEST ARTICLES सारे पोस्ट देखें

Advertisements

हॉट डील्स सारे पोस्ट देखें

Samsung Galaxy M21 2021 Edition (Arctic Blue, 4GB RAM, 64GB Storage) | FHD+ sAMOLED | 6 Months Free Screen Replacement for Prime (SM-M215GLBDINS)
Samsung Galaxy M21 2021 Edition (Arctic Blue, 4GB RAM, 64GB Storage) | FHD+ sAMOLED | 6 Months Free Screen Replacement for Prime (SM-M215GLBDINS)
₹ 12999 | $hotDeals->merchant_name
Redmi 9 Power (Mighty Black 4GB RAM 64GB Storage) - 6000mAh Battery |FHD+ Screen | 48MP Quad Camera | Alexa Hands-Free Capable
Redmi 9 Power (Mighty Black 4GB RAM 64GB Storage) - 6000mAh Battery |FHD+ Screen | 48MP Quad Camera | Alexa Hands-Free Capable
₹ 11499 | $hotDeals->merchant_name
OnePlus Nord 2 5G (Blue Haze, 8GB RAM, 128GB Storage)
OnePlus Nord 2 5G (Blue Haze, 8GB RAM, 128GB Storage)
₹ 29999 | $hotDeals->merchant_name
Redmi 9A (Nature Green, 2GB RAM, 32GB Storage) | 2GHz Octa-core Helio G25 Processor | 5000 mAh Battery
Redmi 9A (Nature Green, 2GB RAM, 32GB Storage) | 2GHz Octa-core Helio G25 Processor | 5000 mAh Battery
₹ 7299 | $hotDeals->merchant_name
Samsung Galaxy M31 (Ocean Blue, 6GB RAM, 128GB Storage)
Samsung Galaxy M31 (Ocean Blue, 6GB RAM, 128GB Storage)
₹ 19999 | $hotDeals->merchant_name
DMCA.com Protection Status