इस गेम की वजह से 250 बच्चे कर चुके हैं आत्महत्या, सचेत रहे
News

इस गेम की वजह से 250 बच्चे कर चुके हैं आत्महत्या, सचेत रहे

Krishna Sharma  | पब्लिश किया गया 04 Aug 2017

Blue whale ये नाम है एक ऐसी गेम का जो अब तक कई बच्चों की जान ले चुकी है। हम जिस विषय पर बात कर रहे हैं इसे मात्र एक समाचार ना समझें। ये एक चेतावनी है। एक संकेत है कि कैसे बुरे लोग हमारे साथ कुछ बुरा कर सकते हैं। हमारे बच्चों के साथ बुरा कर सकते हैं। विश्व भर में लगभग 250 बच्चे इस ब्लू व्हेल गेम के प्रभाव में आकर आत्महत्या कर चुके हैं। एकत्रित की गयी जानकारी के अनुसार केवल रशिया में ही 130 बच्चे अपनी जान गंवा चुके हैं। अभी हाल ही में मुंबई में भी एक बच्चा ‘मनप्रीत सिंह’ इसका शिकार हो चुका है। 

क्या है ब्लू व्हेल गेम 
ये कोई ऐसी गेम नहीं जिसे डाउनलोड करके इनस्टॉल किया जाता हो। ये प्लेस्टोर पर मजूद कोई एप्प नहीं, कोई प्रोग्राम नहीं है, इसकी कोई वेबसाइट नहीं है। आप किसी को ये नहीं कह सकते की इसे इनस्टॉल मत करना। आप इसे ब्लॉक नहीं कर सकते।  

ये गेम नवयुवकों, नवयुवतियों और बच्चों के पास सोशल मीडिया से पहुँच रही है। जहा एक क्यूरेटर उनसे बात करता है। धीरे धीरे भावनात्मक रूप से उन पर हावी होता चला जाता है। 50 दिन में कुल 50 चैलेंज पूरे करने का लक्ष्य उनके सामने रखता है। जिनमें अंतिम लक्ष्य है आत्महत्या करना 

गेम की शर्तें 

  • सबसे खतरनाक ये है कि इस गेम के लिए आने वाले मैसेज में गेम का क्यूरेटर अपनी ये शर्तें बताता है  
  • आप इस गेम को ख़त्म होने तक छोड़ नहीं सकते 
  • आपको मेरे सभी सवालों का जवाब ईमानदारी से देना होगा 
  • आपको मेरे लिए पूरी तरह से समर्पित होना पड़ेगा। 
  • ये मान कर चलो कि मेरे पास तुम्हारी सारी निजी जानकारी है और मैं तुम्हें इस गेम में रहने के लिए मजबूर कर सकता हूँ। 
  • अंतिम चुनौती है आत्महत्या 

यदि सामने वाला गेम खेलने से मना करता है तो क्यूरेटर उसे उसकी निजी सूचनाएं (उसके स्कूल का नाम या फ़ोन नंबर इत्यादि) बताकर ये साबित कर देता है कि वो उसके बारे में सब कुछ जनता है और साथ ही उसे धमकी देता है कि यदि वह ये गेम नहीं खेलेगा तो क्यूरेटर उसके घर आकर उसे और उसके परिवार को ख़त्म कर देगा। और इस तरह बच्चे इस ब्लू व्हेल गेम में फंस जाते हैं। 

गेम के कुछ चैलेंज 

  • प्रत्येक चैलेंज पूरा करने पर उन्हें एक तस्वीर उस चैलेंज के साथ भेजनी होती है। ये हैं उनमें से कुछ चैलेंज 
  • ब्लेड से हाथ पर F57 लिखना 
  • सुबह 4:20 पर उठना और कोई डरावना वीडियो देखना 
  • ब्लेड से अपने हाथ पर whale बनाना
  • अपने फेसबुक स्टेटस पर लिखें #I’m a Whale
  • किसी ऊँची ईमारत पर चढ़ें 
  • अंतिम चैलेंज है आत्महत्या करना

क्या कहता है Blue Whale Game बनाने वाला Philipp Budeikin 
इस गेम (Blue Whale Game) को बनाने वाला (Philipp Budeikin) रशिया का फिलिप्प बुडिकिन पकड़ा जा चूका है, और उसे 3 साल की जेल भी हो चुकी है लेकिन इससे गेम का विस्तार जारी है। उस पर कोई फर्क नहीं पड़ा। (Blue Whale game Creater Philipp Budeikin) फिलिप्प का कहना है कि ये गेम उसने समाज को साफ़ करने के लिए बनायीं है। जब उससे पूछा गया कि क्या वो बच्चों को जानबूझ कर आत्महत्या के लिए उकसाता था तो वो बोला- 

“हां मैं ऐसा करता था, चिंता मत करो तुम्हें सब समझ में आ जायेगा। सबको सबकुछ समझ में आ जायेगा। मैं तो सिर्फ समाज को साफ़ कर रहा हूँ।” -फिलिप्प बुडिकिन

वो कहता है की उसने ये blue whale game इसलिए बनाई ताकि समाज से व्यर्थ, बेकार लोगों को कम किया जा सके। कैसे दूर रखें अपने बच्चे को आप अपने बच्चे को ये बता दें कि अगर उसे इस तरह की किसी चैलेंज गेम के बारे में कोई मैसेज आये तो वो उस पर ध्यान न दे, और आपको यानी अपनी माता पिता को ज़रूर बता दे। 

इस blue whale game के ज़रिये उन बच्चों को निशाना बनाया जाता है जिनमें आत्मविश्वास की कमी हो, या जो भावनात्मक रूप से कमज़ोर हों, और सच ये है की सभी बच्चे भावनात्मक रूप से इतने मज़बूत नहीं होते कि उन्हें कोई इस तरह से ब्लैक मेल न कर सके। सावधान रहे। 

  • अपने बच्चों का ध्यान रखें। 
  • अपने बच्चों पर नज़र रखें। 
  • उन्हें प्यार दें। 
  • उनके साथ ऐसा व्यवहार न करें कि उनके अन्दर हीन भावना उत्पन्न हो। 

यदि आपके पास ऐसा कोई मेसेज आये तो क्या करें
यदि आपके पास ऐसा कोई मेसेज आये और यदि वो व्यक्ति आपको आपकी निजी सूचना दिखा कर या बता कर ब्लैकमेल करे तो अपने घर वालों को ये बात ज़रूर बताएं। पुलिस से संपर्क करें। साइबर सेल इस समस्या से निपटने में आपकी मदद करेगा। 

यदि आप इस गेम में फंस चुके हैं तो क्या करें?
ऐसे में सबसे सही है अपने परिजनों को बताना और पुलिस से संपर्क करना। 

ऐसे messages से सावधान रहे सुरक्षित रहे

Krishna Sharma
Krishna Sharma

Email Email Krishna Sharma

Tags:
blue whale challenge

Digit.in is one of the most trusted and popular technology media portals in India. At Digit it is our goal to help Indian technology users decide what tech products they should buy. We do this by testing thousands of products in our two test labs in Noida and Mumbai, to arrive at indepth and unbiased buying advice for millions of Indians.

We are about leadership — the 9.9 kind Building a leading media company out of India. And, grooming new leaders for this promising industry