National Technology Day 2021: जानें कैसे काम करती है 5G टेक्नोलॉजी और कैसे है 4G से बेहतर

द्वारा Digit Hindi | पब्लिश किया गया 11 May 2021
HIGHLIGHTS
  • National Technology Day 2021: आज जानें आखिर क्या होती है 5G टेक्नोलॉजी और कैसे करती है काम

  • क्या 5G के देश में आने के बाद सच में बदल जाने वाली है इंटरनेट की परिभाषा

  • 4G को कहीं पीछे जल्दी ही छोड़ने वाला है 5G नेटवर्क, जानें 5G को लेकर सबकुछ!

National Technology Day 2021: जानें कैसे काम करती है 5G टेक्नोलॉजी और कैसे है 4G से बेहतर
National Technology Day 2021: 5G Technology कैसे बदलेगी स्लो इंटरनेट को फ़ास्ट इंटरनेट में!

हम सभी जानते हैं कि आज National Technology Day 2021 है, हालाँकि आज हम इस दिन के इतिहास में जाकर आपको इसके बारे में बताने वाले नहीं हैं लेकिन आज हम आपको 5G टेक्नोलॉजी के बारे में जरुर कुछ बताने वाले हैं। हम आज आपको बताने वाले है कि देश में 5G की टेस्टिंग को मंजूरी मिल चुकी है, इसके अलावा जल्द ही देश में 5G तकनीकी अपने पैर पसारने वाली है। हालाँकि ऐसे में यह भी जानना जरुरी है कि आखिर 5G कितना फ़ास्ट है, कैसे काम करता है और 4G के मुकाबले यह कैसे आपको तेज इंटरनेट देने वाला है, साथ ही यह भी जानेंगे कि आखिर कैसे इसके माध्यम से स्लो इंटरनेट को फ़ास्ट इंटरनेट में बदला जाने वाला है।

हालाँकि इसके पहले आपको बता देते है कि डिपार्टमेंट ऑफ़ टेलीकम्यूनिकेशन की ओर से टेलीकॉम सेवा प्रदाता कंपनियों जैसे भर्ती एयरटेल, रिलायंस जियो इंफोकॉम, वोडाफोन आईडिया और MTNL आदि को देश में 5G टेस्टिंग की मंजूरी दे दी है। आपको बता देते है कि सभी टेलीकॉम कंपनियों की ओर से ओरिजिनल इक्विपमेंट मैन्युफैक्चरर और तकनीकी प्रोवाइडर्स से साझेदारी की है, जिसमें एरिक्सन, नोकिया सैमसंग और C-DOT आदि शामिल हैं, इनके माध्यम से ही टेलीकॉम कंपनियों के 5G इन्फ्रास्ट्रक्चर का निर्माण किया जाने वाला है। इनके अलावा आपको बता देते है कि रिलायंस जियो इंफोकॉम की ओर से उसकी खुद की तकनीकी का इस्तेमाल करके 5G ट्रायल्स किया जाने वाला है, इस बात की जानकारी रिलायंस जियो की ओर से सामने आई एक आधिकारिक स्टेटमेंट में दी गई है। 

आपको बता देते है कि DoT की ओर से इन टेलीकॉम कंपनियों को यह मंजूरी प्रायोरिटी और तकनीकी पार्टनर्स को देखकर दी है। आपको बता देते है कि एक्सपेरिमेंटल स्पेक्ट्रम के तौर पर कई बैंड्स को मंजूरी दी गई है, जिसमें मिड-बैंड भी शामिल है, जो 3.2GHz से 3.67GHz है, इसके अलावा मिलीमीटर वेव बैंड जो 24.25GHz से 28.5GHz है, साथ ही सब-गीगा हर्ट्ज़ बैंड जो 700GHz पर काम करता है। इसके अलावा इन टेलीकॉम कंपनियों को इस बात की मंजूरी मिली है कि यह अपने खुद के स्पेक्ट्रम जिसमें 800MHz, 900MHz, 1800MHz और 2500MHz पर भी 5G ट्रायल्स कर सकते हैं। 

DoT ने इंडिया में दे दी है ट्रायल्स की इजाज़त

DoT के ओर से इंडिया में टेलीकॉम कंपनियों को 5G ट्रायल्स के लिए मंजूरी दे दी है। आपको बता देते है कि यह मंजूरी 6 महीने के लिए दी गई है। आपको बात देते है कि इस समय में 2 महीने का समय उपकरणों की खरीद और सेटिंग के लिए दिया गया है। आपको बता देते हैं कि जो मंजूरी मिली है, उसमे यह भी कहा गया है कि यह ट्रायल्स रूरल और सेमी अर्बन सेटिंग पर किया जा सकता है। 

यहाँ आपको यह भी बता देते है कि इस 5G ट्रायल को इसी नाम से न करके 5Gi तकनीकी के तौर पर टेस्ट किया जाने वाला है। इसके अलावा ITU यानी इंटरनेशनल टेलीकम्युनिकेशन्स यूनियन ने भी 5Gi तकनीकी को मान्यता दे दी है। यह खासतौर पर इंडिया के लिए ही आई है, क्यूंकि इंडिया में 5G टावर्स की रीच और रेडियो नेटवर्क्स की रीच काफी बड़ी है। आपको बता देते है कि 5Gi तकनीकी का निर्माण IIT Madras, सेण्टर ऑफ़ एक्सीलेंस इन वायरलेस टेक्नोलॉजी CEWiT और IIT हैदराबाद की ओर से किया गया है। 

संचार मंत्रालय के बयान में कहा गया है कि 5G परीक्षणों के संचालन के उद्देश्यों में 5G स्पेक्ट्रम प्रसार विशेषताओं का परीक्षण करना शामिल है, विशेष रूप से भारतीय संदर्भ में, यहाँ चुना गया उपकरण और विक्रेताओं का मॉडल ट्यूनिंग और मूल्यांकन, स्वदेशी प्रौद्योगिकी का परीक्षण, अनुप्रयोगों का परीक्षण और 5जी फोन और उपकरणों का परीक्षण करना आदि शामिल है।

अगर हम डेटा रेट्स की बात करें तो 5G तकनीकी में इसके 4G के मुकाबले में 10 गुना ज्यादा बढ़ जाने के आसार हैं। इसके अलावा यह 3 गुना स्पेक्ट्रम एफिशिएंसी और अल्ट्रा-लो लेटेंसी को भी इनेबल करता है। अनुप्रयोग कृषि, शिक्षा, स्वास्थ्य, परिवहन, यातायात प्रबंधन, स्मार्ट शहरों, स्मार्ट घरों और IoT (इंटरनेट ऑफ़ थिंग्स) के कई अनुप्रयोगों जैसे क्षेत्रों की एक विस्तृत श्रृंखला में हैं।

DoT ने निर्दिष्ट किया है कि परीक्षण को आइसोलेटेड किया जाने वाला है और इसे TSPs के मौजूदा नेटवर्क के साथ नहीं जोड़ा जाएगा। परीक्षण गैर-वाणिज्यिक आधार पर होंगे और परीक्षण के दौरान उत्पन्न आंकड़े भारत में संग्रहीत किए जाएंगे। 

5G आखिर क्या है?

5G को एक इंडस्ट्री स्टैण्डर्ड के तौर पर देखा जा सकता है जो वर्तमान में चल रहे 4G LTE स्टैण्डर्ड से कुछ आगे बढ़कर सामने आने वाला है। जैसे कि 3G के स्थान पर 4G ने अपनी जगह बनाई थी वैसे ही ऐसा माना जा रहा है यह fifth generation के स्थान पर 5G नाम से आने वाला है। इसका मतलब है कि यह इस स्टैण्डर्ड का पांचवां standard है।

इसे अभी वर्तमान में चल रहे 4G LTE तकनीकी से भी तेज़ गति से चलने के लिए निर्मित किया गया है। हालाँकि इसे मात्र स्मार्टफोन में इन्टरनेट की स्पीड को बढ़ाने को लेकर ही नहीं देखा जा रहा है। लेकिन ऐसा माना जा रहा है कि इसके साथ फास्टर वायरलेस इन्टरनेट को सभी जगह सभी के लिए पहुँचाया जा सकता है। इसके माध्यम से कार्स को कनेक्ट किया जा सकता है। यह आप आसानी से स्मार्टफोंस के साथ कर सकते हैं। ऐसा भी कहा जा सकता है कि भविष्य में आपके स्मार्टफोन के साथ अन्य सेलुलर कनेक्टिविटी वाले डिवाइस जो आपके पास हैं। वह सब 4G LTE तकनीकी के स्थान पर 5G का इस्तेमाल उसी तरह से करने वाले हैं, जैसा कि आज हम 4G का कर रहे हैं। यहाँ क्लिक करके 4G कितना फ़ास्ट है जानिये!

कितना फ़ास्ट होने वाला है 5G नेटवर्क?

टेक कंपनियां 5G से काफी आशाजनक हैं। जबकि सैद्धांतिक 100 मेगाबिट्स प्रति सेकंड (एमबीपीएस) में 4G टॉप पर  है, हालाँकि 5G के मामले में यह टॉप 10 गीगाबिट्स प्रति सेकंड (जीपीएस) होने वाला है। इसका मतलब है कि 5G वर्तमान 4G तकनीक की तुलना में सौ गुना तेज  होने वाला है। उदाहरण के लिए, उपभोक्ता प्रौद्योगिकी एसोसिएशन की एक रिपोर्ट में ऐसा भी सामने आ चुका है कि इस गति से, आप 5G पर केवल 3.6 सेकंड में, 4G पर 6 मिनट बनाम 3G पर 26 घंटे में दो घंटे की फिल्म डाउनलोड कर सकते हैं।

यह सिर्फ कहने वाली बात नहीं है, 5G में विलंबता को कम करने का वादा किया गया है, जिसका अर्थ है कि इंटरनेट पर कुछ भी करने के दौरान तेजी से लोड समय और बेहतर जवाबदेही बनने वाली है। विशेष रूप से, विनिर्देश आज 4G LTE पर 5G बनाम 20ms पर 4ms की अधिकतम विलंबता का वादा करता है।

इस गति पर, 5G वर्तमान होम केबल इंटरनेट कनेक्शन को देखा गया है और यह फाइबर के लिए अधिक तुलनीय है। कॉमकास्ट, कॉक्स और अन्य जैसी लैंडलाइन इंटरनेट कंपनियों को गंभीर प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ सकता है - खासकर जब वे एक निश्चित क्षेत्र में तेजी से होम  इंटरनेट के लिए एकमात्र विकल्प हैं। वायरलेस वाहक हर घर में भौतिक तारों को बिछाने के बिना एक विकल्प प्रदान कर सकते हैं।

सभी चाहते हैं कि कि 5G के बारे में सुपर-फास्ट, व्यावहारिक रूप से असीमित इंटरनेट हर जगह और सभी उपकरणों को सक्षम करने के बारे में भी सोचा जाए। बेशक, वास्तविक दुनिया में, इंटरनेट सेवा प्रदाता डाटा कैप लगाते हैं। उदाहरण के लिए, भले ही आपके वायरलेस कैरियर ने आपको 100 जीबी डाटा कैप दिया हो - जो कि आज की अधिकांश प्लान्स की तुलना में बहुत बड़ा है - आप एक मिनट में और 20 सेकंड में 10 Gbps की अधिकतम सैद्धांतिक गति से उड़ा सकते हैं। यह स्पष्ट नहीं है कि कौन से वाहक वाहक अंततः लगाएंगे और कितना उपयोग को प्रभावित करेंगे।

5G नेटवर्क कैसे काम करता है?

5G तेज गति को प्राप्त करने के लिए बहुत सारी तकनीकी का लाभ उठाकर इनका इस्तेमाल भी करता है। हालाँकि यह मात्र इनोवेशन आदि की ही बात नहीं है। आईईईई स्पेक्ट्रम पत्रिका बहुत सारे तकनीकी विवरणों को अधिक गहराई से समझाने का एक अच्छा काम करती है, लेकिन यहां हम आपको इसे आसानी से समझाने वाले हैं।

नया स्टैण्डर्ड 4G से रेडियो स्पेक्ट्रम के पूरे नए बैंड का उपयोग करेगा। 5G "मिलीमीटर वेव्स" का लाभ उठाएगा, जो 30GHz और 300GHz बनाम बैंड के बीच 6GHz से नीचे के बैंड में प्रसारित होते थे, जो अतीत में उपयोग किए गए थे। ये पहले केवल उपग्रहों और रडार प्रणालियों के बीच संचार के लिए उपयोग में लिए जाते थे। लेकिन मिलीमीटर तरंगों को आसानी से इमारतों या अन्य ठोस वस्तुओं के माध्यम से यात्रा नहीं की जा सकती है, इसलिए 5G "छोटी cells" का भी लाभ उठाएंगे - छोटे लघु आधारित स्टेशन जिन्हें पूरे शहरी क्षेत्रों में लगभग 250 मीटर तक रखा जा सकता है। ये ऐसे स्थानों में बहुत बेहतर कवरेज प्रदान करेंगे।

ये बेस स्टेशन "बड़े पैमाने पर MIMO" का भी उपयोग करते हैं। MIMO का अर्थ है "मल्टीपल-इनपुट मल्टीपल-आउटपुट।" आपके पास MIMO तकनीक वाला एक होम वायरलेस राउटर भी हो सकता है, जिसका अर्थ है कि इसमें कई एंटेना होते हैं जिनका उपयोग यह कई अलग-अलग वायरलेस डिवाइसेज पर बात करने के लिए कर सकता है उनके बीच स्विच किए बिना ही यह ऐसा कर सकता है। बड़े पैमाने पर MIMO एक बेस स्टेशन पर दर्जनों एंटेना का उपयोग करेगा। वे उन संकेतों को बेहतर ढंग से निर्देशित करने के लिए बीमफॉर्मिंग का लाभ भी उठाएंगे, डिवाइस में इंगित होने वाले बीम में वायरलेस सिग्नल को निर्देशित करेंगे और अन्य उपकरणों के लिए हस्तक्षेप कम करेंगे।
5G बेस स्टेशन भी पूर्ण duplex  पर चलेंगे, जिसका अर्थ है कि वे एक ही आवृत्ति पर एक ही समय में संचारित और प्राप्त कर सकते हैं। आज, उन्हें संचारण और सुनने के तरीकों के बीच स्विच करना है, चीजों को धीमा करना है। यह 5G को इतनी तेजी से बनाने के लिए शामिल की जा रही कुछ प्रौद्योगिकी का एक स्नैपशॉट है।

क्या होता है 4G?

इसे सीधे शब्दों में कहें, तो 4G को मोबाइल प्रौद्योगिकी की चौथी पीढ़ी के रूप में परिभाषित किया गया है जो 2G और 3G नेटवर्क के बाद सामने आई है, या ऐसा भी कह सकते हैं कि जो 2G और 3G का अनुसरण करती है। इसे कभी-कभी 4G एलटीई भी कहा जाता है, लेकिन यह तकनीकी रूप से सही नहीं है क्योंकि एलटीई केवल एक प्रकार का 4G है। वर्तमान में यह सबसे उन्नत तकनीक है जिसे अधिकांश मोबाइल नेटवर्क सेवा प्रदाताओं द्वारा अपनाया जा रहा है। 4G के बारे में ज्यादा जानें यहाँ!

जब यह शुरू में बाजार में आया तो 4G ने दुनिया में एक बड़ा बदलाव किया, हम मोबाइल इंटरनेट का उपयोग कैसे करते हैं, इसे भी 4G ने पूरी तरह से बदलकर रख दिया। जबकि 3G नेटवर्क अपेक्षाकृत तेज़ है, और इसमें कोई भी दोराय नहीं है, लेकिन 4G नेटवर्क कनेक्शन ने उपयोगकर्ताओं को वेब ब्राउज़ करने और मोबाइल उपकरणों पर एचडी वीडियो स्ट्रीम करने की आज़ादी दी, जिसके बाद स्मार्टफोंस आधुनिक युग के कंप्यूटरों में बदल गए।

इसी कारण आप वह सभी काम जो लैपटॉप या डेस्कटॉप कंप्यूटर पर स्मार्टफोन या टैबलेट जैसे मोबाइल उपकरणों पर कर सकते हैं। इन्हें करने में 4G नेटवर्क सुनिश्चित करता है कि आपको कितने भी डाटा की आवश्यकता हो, आप लगभग हर जगह स्थिर गति पा सकते हैं।

आखिर कितना फ़ास्ट होता है 4G?

आसान शब्दों में कहें तो आपको बता देते हैं कि 3G के मुकाबले में 4G काफी फ़ास्ट होता है, लेकिन क्या इससे हमें कुछ भी पता चलता है? मेरी राय में तो आपको इससे कुछ भी पता नहीं चलता है क्योंकि 3G के मुकाबले 4G तेज़ है इसका क्या मतलब है। स्टैंडर्ड 4G ऑफर लगभग 14 एमबीपीएस की डाउनलोड स्पीड देता है, जो कि इसके पहले के 3G नेटवर्क की तुलना में लगभग पांच गुना अधिक तेज है। वास्तव में, 4G नेटवर्क 150 एमबीपीएस तक की गति तक पहुंच सकता है, जिससे उपयोगकर्ता 3G नेटवर्क की तरह घंटों के बजाय मिनट या सेकंड में गीगाबाइट डाटा डाउनलोड कर सकते हैं।

डाटा अपलोड करना भी इसमें बहुत तेज़ है– स्टैण्डर्ड 4G अपलोड गति लगभग 8 एमबीपीएस तक हो सकती है, जिसमें सैद्धांतिक गति 50 एमबीपीएस तक पहुंचती है, जबकि 3G लगभग 0.5 एमबीपीएस तक ही सीमित रह जाती है। यहाँ आपको अंतर पता चल ही गया होगा कि आखिर भारत में अभी भी 4G क्या स्पीड है, और असल में इसे कितना होना चाहिए।

logo
Digit Hindi

email

Web Title: National Technology Day 2021 here to know how 5g technology wil change slow internet to fastest internet
Advertisements

ट्रेंडिंग टेक न्यूज़

Advertisements

LATEST ARTICLES सारे पोस्ट देखें

Advertisements
DMCA.com Protection Status