Install App Install App

वैज्ञानिकों ने की आम सुपरनोवा से 500 गुना चमकदार सुपरनोवा की खोज

द्वारा Digit Hindi | पब्लिश किया गया 17 Apr 2020
HIGHLIGHTS
  • अंतरिक्ष में हुई ये बड़ी खोज

  • क्या होता है सुपरनोवा

वैज्ञानिकों ने की आम सुपरनोवा से 500 गुना चमकदार सुपरनोवा की खोज
वैज्ञानिकों ने की आम सुपरनोवा से 500 गुना चमकदार सुपरनोवा की खोज

अंतरिक्ष वैज्ञानिकों ने ब्रह्मांड में अब तक खोजे गए सुपरनोवा से भी 10 गुना शक्तिशाली सुपरनोवा की तलाश की है। वैज्ञानिकों का कहना है कि यह सुपरनोवा न केवल पिछले सुपरनोवा से अधिक चमकदार है बल्कि उससे अधिक शक्तिशाली भी है। NASA और ESA के मुताबिक, यह सुपरनोवा दो विशाल तारों के आपस में टकराने के कारण बना है। हाल ही में ब्रिटेन और अमेरिका के वैज्ञानिकों ने इसका खुलासा किया है। उनकी यह खोज नेचर एस्ट्रोनॉमी के पीयर रिव्यू जर्नल में प्रकाशित हुई है। इस रिसर्च पेपर में उन्होंने इस नई खोज से जुड़ी बातों पर प्रकाश डाला है। बर्मिंघम यूनिवर्सिटी और हार्वर्ड-स्मिथसोनियन सेंटर फॉर एस्ट्रोफिजिक्स ने इस खोज का नाम SN2016aps रखा है। शोधकर्ताओं ने इसे कई और मामलों में भी बेहद ख़ास बताया है। 

आमतौर पर ऐसे सुपरनोवा अपनी कुल ऊर्जा का केवल एक फ़ीसदी दिखने वाले प्रकाश की कुछ दूरी तक ही दिखाई देता है। हालांकि, SN2016aps के मामले में ऐसा बिल्कुल नहीं है। यह कही बड़ा हिस्सा प्रकाश के रूप में निकालता है। वैज्ञानिकों का मानना है कि इस सुपरनोवा की ऊर्जा 200 ट्रिलियन गीगाटन के विस्फोट के बराबर होगी। 

इस शोध के दौरान यह बात भी सामने आई है कि अत्यधिक ऊर्जा वाले सुपरनोवा के इर्द-गिर्द बादलों में हाइड्रोजन की मात्रा काफी अधिक होती हैं। शोधकर्ताओं के मुताबिक इसकी वजह सुपरनोवा का निर्माण है जो सूर्य जैसे दो तारों के आपस में मिल जाने के कारण हुआ है। वैज्ञानिकों का यह भी कहना है कि अब तक ऐसा केवल सैद्धांतिक तौर पर ही होता आया था लेकिन पहली बार ऐसा कुछ होने का प्रमाण भी मिला है। 

क्या होता है Supernova?

जब कोई तारा अपनी उम्र पूरी कर लेता है तो उसकी ऊर्जा उसमें से बाहर आने लगती है। आम भाषा में इसे तारों का टूटना कहा जाता है जबकि वैज्ञानिकों की भाषा में इसे सुपरनोवा कहा जाता है। इसी तरह सुपरनोवा से नए तारों का जन्म होता है। सुपरनोवा की ख़ासियत यह भी होती है कि इस दैरान निकलने वाली ऊर्जा सूर्य से निकलने वाली ऊर्जा से भी अधिक होती है। इसकी शक्तिशाली ऊर्जा के सामने हमारी धरती की आकाशगंगा कई हफ्तों तक फीकी पड़ सकती है। 

Digit Hindi
Digit Hindi

Email Email Digit Hindi

Follow Us Facebook Logo Facebook Logo

About Me: Ashwani And Aafreen is working for Digit Hindi, Both of us are better than one of us. Read the detailed BIO to know more about Digit Hindi Read More

Install App Install App
Advertisements

ट्रेंडिंग टेक न्यूज़

Advertisements

LATEST ARTICLES सारे पोस्ट देखें

Advertisements
DMCA.com Protection Status