RAM क्या है? आपके फोन को है कितनी RAM (रैम) की जरूरत

द्वारा Ashwani Kumar | पब्लिश किया गया 28 Jan 2020
HIGHLIGHTS
  • क्यों आपके फोन को ऑपरेट करने के लिए RAM (रैम) की जरूरत पड़ती है

  • आखिर आपके फोन को कितनी जरूरत की असल में जरूरत है?

  • इसके अलावा RAM और ROM के बीच क्या बड़े अंतर हैं, आज हम इन्हीं सवालों के जवाब तलाशने की कोशिश करेंगे

RAM क्या है? आपके फोन को है कितनी RAM (रैम) की जरूरत
RAM क्या है? आपके फोन को है कितनी RAM (रैम) की जरूरत

हमने देखा है कि दुनिया में 12GB की रैम के साथ भी स्मार्टफोंस को लॉन्च किया जा चुका है। यह रैम किसी गेमिंग PC में मौजूद रैम से कहीं ज्यादा है। हालाँकि दुनिया में 8GB और 6GB रैम वाले स्मार्टफोंस भी हैं, और इनकी संख्या ज्यादा है। अब बहुत से लोगों का यह सवाल होता है कि आखिर एक स्मार्टफोन में 10GB या 12GB रैम क्या मतलब है, क्योंकि ऐसा ही काम तो एक 4GB रैम वाला स्मार्टफोन भी करता है, तो क्यों हमें इतनी ज्यादा रैम की जरूरत है?

यह पहली दफा ही सामने नहीं आ रहा है कि फोंस को इतनी ज्यादा ज्यादा रैम के साथ लॉन्च किया जाने लगा है। असल में अगर हमें याद है तो OnePlus 5T स्मार्टफोन को 8GB रैम के साथ लॉन्च किया गया है, और आजकल हम देख रहे हैं कि 6GB की रैम वाले स्मार्टफोंस काफी कॉमन हो गए हैं। असल में हम यहाँ स्मार्टफोंस की बात करने नहीं आये हैं लेकिन हम यहाँ रैम की चर्चा को लेकर आये हैं। आपका फोन किस तरह से रैम को इस्तेमाल करता है, और जब आपके फोन को जितनी जरूरत है, उससे 250% रैम दी जाती है तो क्या होता है। आज हम इसी बारे में जानने वाले हैं। हालाँकि हम आज चर्चा करने वाले हैं कि क्यों आपके फोन को ऑपरेट करने के लिए RAM (रैम) की जरूरत पड़ती है, और आखिर आपके फोन को कितनी जरूरत की असल में जरूरत है? इसके अलावा RAM और ROM के बीच क्या बड़े अंतर हैं।

RAM (रैम) क्या है?

RAM (रैंडम एक्सेस मेमोरी) अल्पकालिक डिजिटल स्टोरेज है। कंप्यूटर (और हां, आपका फोन एक कंप्यूटर है) रैम का उपयोग ज्यादातर उन डेटा को रखने के लिए किया जाता है जो सक्रिय एप्लिकेशन - सीपीयू और ऑपरेटिंग सिस्टम के कर्नेल के साथ - उपयोग कर रहे हैं क्योंकि जब यह पढ़ने और लिखने की बात आती है, तो रैम बहुत तेज है। यहां तक कि सबसे तेज हार्ड ड्राइव या फ्लैश स्टोरेज धीमा है, जब आपको "अभी" कुछ पढ़ने या लिखने की आवश्यकता होती है, और जबकि आपके फोन के अंदर सीपीयू के पास गणना के लिए उपयोग किए जा रहे डेटा को रखने के लिए अपना कैश है, इसमें बहुत कुछ नहीं है। स्नैपड्रैगन 835 (एक उदाहरण के रूप में) में उच्च-प्रदर्शन कोर के लिए 2MB कैश और कम-प्रदर्शन कोर के लिए 1MB है। 2MB कैश केवल उस चीज़ को रखने के लिए पर्याप्त है जिसका अभी उपयोग किया जा रहा है, इसलिए आपको कहीं न कहीं इस बात की आवश्यकता है कि आगे क्या उपयोग किया जा रहा है। इस समय बाजार में स्नेपड्रैगन 855 और इसके आगे के वर्जन भी आ चुके हैं।

OS कर्नेल आपके फ़ोन के हार्डवेयर का उपयोग करने पर आने वाली हर चीज़ के लिए ट्रैफ़िक पुलिस के रूप में कार्य करता है। जब कोई गेम या कोई ऐप नई स्क्रीन खींचना चाहता है, तो डेटा का उपयोग करने के लिए बनाया जाता है, यह रैम में जाता है जहां ओएस इसे पार्स कर सकता है, सीपीयू और जीपीयू को किसी भी प्रसंस्करण की आवश्यकता होती है, फिर इसे डिस्प्ले पर भेज दें, इसलिए सही स्थानों में सही रंग के डॉट्स खींचे जा सकते हैं। 

यह सब जटिल लगता है, और यह है, लेकिन आपको यह समझने की ज़रूरत है कि तीन बुनियादी बातें हैं: रैम थोड़े समय के लिए डेटा रखने की जगह है, और वहां रखा डेटा बहुत तेजी से पढ़ा या लिखा जा सकता है। जब आप अपना फ़ोन बंद करते हैं तो RAM में डेटा मिट जाता है। आपके फोन में मौजूद रैम के एक हिस्से का उपयोग जैसे ही आप इसे चालू करते हैं और कोई भी ऐप या यहां तक कि ओएस उस हिस्से का उपयोग करने में सक्षम नहीं होता है। यह किसी भी कंप्यूटर के बारे में है;  (लगभग) सभी में रैम है और वे इसे उसी तरह से उपयोग करते हैं।

आपके फोन को असल में कितने रैम की जरूरत है?

इस प्रश्न में आपके अपने उपयोग परिदृश्य और आपके द्वारा उपयोग किए जाने वाले ऑपरेटिंग सिस्टम के आधार पर एक तरल उत्तर है। यदि आप Android का उपयोग कर रहे हैं, तो आपको iOS से अधिक RAM की आवश्यकता होगी। दुर्भाग्य से एंड्रॉइड उपयोगकर्ताओं के लिए, एंड्रॉइड ऑपरेटिंग सिस्टम आईओएस की तुलना में थोड़ी अधिक मेमोरी है। इसका मुकाबला करने के लिए, ज्यादातर Android निर्माता अपने स्मार्टफ़ोन में Apple की तुलना में अधिक RAM शामिल करते हैं। उदाहरण के लिए Samsung Galaxy S9 में आपको 4GB की रैम मिल रही है, इसके स्थान पर iPhone 8 में आपको मात्र 2GB की रैम ही मिल रही है। हालाँकि इस समय iPhone कुछ ज्यादा रैम के साथ आने लगे हैं। यहाँ इस बड़े अंतर को आप देख सकते हैं, इसका साफ़ मतलब है कि आपको एंड्राइड फोंस के लिए ज्यादा रैम की जरूरत होती है। 

एंड्राइड में मात्र 4GB रैम की ही है जरूरत 

यदि आप प्रतिदिन कई ऐप का उपयोग करते हैं, तो आपके RAM का उपयोग 2.5-3.5GB से अधिक नहीं होगा। इसका मतलब है कि 4 जीबी रैम वाला स्मार्टफोन आपको दुनिया के किसी भी कोने में आपके पसंदीदा ऐप को जल्दी से खोलने के लिए देगा। असल में हम रोजमर्रा में जितना काम करते हैं, उसके लिए हमें ज्यादा रैम की जरूरत नहीं है। लेकिन जब बात स्पीड की आती है तो हमें कहीं न कहीं एक ऐसे स्मार्टफोन की तलाश होती है जो कभी भी हैंग न करता हो, तो हम ज्यादा रैम वाले स्मार्टफोन की ओर दौड़ने लग जाते हैं। हालाँकि जरूरत के हिसाब से हम 4GB रैम वाले स्मार्टफोन में भी सब कुछ कर सकते हैं, इसमें गेमिंग भी बढ़िया की जा सकती है। 

RAM और ROM के बीच क्या है अंतर?

आपको बता देते हैं कि जब हम इंटरनेट पर इस बारे में खोज कर रहे थे, और अपने करीबियों से इनके बारे में जानने की कोशिश कर रहे थे, तो हमारे सामने काफी कुछ आया है, कुछ लोगों को यह भी नहीं पता था कि आखिर यह दोनों क्या होते हैं। इसके अलावा अगर बात करें कुछ ऐसे लोगों की जो पिछले काफी समय से एक स्मार्टफोन या लैपटॉप का इस्तेमाल कर रहे थे, वह इनके बारे में जानते थे, लेकिन इनके बीच में क्या अंतर होता है, इस बात से वह सभी अनभिग्य थे। आइये अब शुरू करते हैं, और जानने की कोशिश करते हैं कि आखिर इन दोनों के बीच में क्या बड़े अंतर हैं।  

अगर हम रैम से शुरुआत करें तो आपको बता देते हैं कि यह एक ऐसी चिप होती है। जो स्थाई होती है, जिसे डाटा को अपने पास सेव रखने के लिए पॉवर आदि की जरूरत होती है। इसके अलावा जैसा ही इसका कनेक्शन पॉवर से कटता है, वैसे ही इसमें मौजूद सभी जानकारी गायब हो जाती है। 

इसके अतिरिक्त अगर हम रोम आदि की चर्चा करें तो इसमें रैम के मुकाबले उल्टा होता है, यह एक ऐसी चिप है जो परिवर्तनशील नहीं होती है। अगर आप इसमें एक बाद डाटा को सेव कर दें तो इसे बदला नहीं जा सकता है। जैसे कि मैंने आपसे शुरुआत में ही कहा था कि इसे रीड ओनली मेमोरी के तौर पर देखा जाता है। यानी एक बार डाटा सेव करने के बाद उसे महज पढ़ा जा सकता है, उसे बदला नहीं जा सकता है। अंग्रेजी में इसे नॉन-वोलेटाइल स्टोरेज या मेमोरी भी कहा जाता है।

इस बड़े अंतर के अलावा भी इनके बीच में कुछ छोटे अंतर होते हैं, जिनका जिक्र यहाँ करना जरुरी है, क्योंकि अगर हम विस्तार से और स्पष्ट रूप से इनके बीच के अंतर को जानना चाहते हैं तो आपको बता दें कि आपको इस बड़े अंतर के अलावा भी इनके बारे में और भी कुछ जानना होगा तभी स्पष्ट हो पायेगा कि आखिर यह एक दूसरे से अलग कैसे हैं। तो आइये इनके और कुछ छोटे मोटे अंतरों के बीच के अंतर को भी जानने की कोशिश करते हैं। 

•    रैम को आप किसी डिवाइस में रोजमर्रा के कामों को करने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं, हालाँकि इसके अलावा रोम को महज उसी समय इस्तेमाल किया जाता है, जब उस डिवाइस का निर्माण किया जा रहा होता है। 
•    अगर आप रोम में डाटा को सेव करना चाहते हैं तो आपको बता दें कि इसके लिए आपको एक लम्बी प्रक्रिया से गुजरना होता है। हालाँकि रैम में इसका उल्टा होता है, इसमें आप बड़ी तेजी से डाटा को सेव कर सकते हैं।

हमें Instagram पर फॉलो करने के लिये यहां क्लिक करें 

हमें YouTube पर सब्सक्राइब करने के लिये यहां क्लिक करें

इसके अलावा अगर हम कम्प्यूटर के अन्दर रैम और रोम के बीच के अंतर को जानना चाहते हैं तो आपको बता देते हैं कि इसकी प्रक्रिया भी कुछ अलग है। या ऐसा भी कह सकते हैं, यह दोनों ही एक दूसरे से काफी अलग हैं। अगले लेख में हम आपको इसके बारे में भी जानकारी देने वाले हैं। इन दोनों के बीच में और अंतरों को जानने के लिए हमारे साथ बने रहे, हम जल्द ही आपके साथ इसी जानकारी पर कुछ नया लेकर हाजिर होंगे।

logo
Ashwani Kumar

email

Advertisements

ट्रेंडिंग टेक न्यूज़

Advertisements

LATEST ARTICLES सारे पोस्ट देखें

Advertisements
DMCA.com Protection Status