'BharOS' की टेस्टिंग के बाद सामने आए अहम फीचर्स

Aafreen Chaudhary द्वारा | पब्लिश किया गया 24 Jan 2023 18:02 IST
HIGHLIGHTS
  • भारत के स्वदेशी ऑपरेटिंग सिस्टम 'BharOS' को नो डिफ़ॉल्ट ऐप्स के साथ पेश किया गया

  • अब यूजर्स के फोन में ऐसे ऐप्स नहीं होंगे जिनका वे उपयोग ही नहीं करते

  • OS पर केवल ट्रस्टेड ऐप्स को ही पर्मिशन मिलती है

'BharOS' की टेस्टिंग के बाद सामने आए अहम फीचर्स
भारत के स्वदेशी ऑपरेटिंग सिस्टम 'BharOS' को नो डिफ़ॉल्ट ऐप्स के साथ पेश किया गया

भारत का पहला स्वदेशी ऑपरेटिंग सिस्टम आ रहा है। 'BharOS' की टेस्टिंग हो चुकी है और OS के कुछ फीचर्स भी सामने आए हैं। यूनियन आईटी मिनिस्टर अश्विनी वैष्णव और यूनियन एजुकेशन मिनिस्टर धर्मेंद्र प्रधान ने इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी मद्रास (Indian Institute of Technology, Madras (IIT)) में 'BharOS' की टेस्टिंग की है। 

'BharOS' प्राइवेसी और सिक्योरिटी को नजर में रखते हुए भारत सरकार द्वारा बनाया गया मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम है जिसे गूगल के एंड्रॉइड यूजर्स और एप्पल के iOS यूजर्स के लिए लाया गया है। चलिए जानते हैं 'BharOS' के बारे में…

यह भी पढ़ें: Free Disney+ Hotstar के साथ आते हैं Airtel के ये प्लान, चाहिए Amazon Prime तो हैं और भी ऑप्शन

No Default Apps (NDA) के साथ आया 'BharOS'

भारत के स्वदेशी ऑपरेटिंग सिस्टम 'BharOS' को नो डिफ़ॉल्ट ऐप्स के साथ पेश किया गया है। अब यूजर्स केवल उन्ही ऐप्स को फोन में रखेंगे जिनका उन्हें उपयोग करना है। 

bharOS

यूजर्स के फोन में ऐसे ऐप्स नहीं होंगे जिनका वे उपयोग ही नहीं करते या जिनकी जानकारी यूजर्स को है ही नहीं। यूजर्स ऐप्स पर दी जाने वाली परमिशन पर अपना पूरा कंट्रोल रख सकेंगे। 

NOTA रखेगा डिवाइस को सिक्योर 

भारत का स्वदेशी ऑपरेटिंग सिस्टम 'Native Over The Air' (NOTA) के साथ आया है। ऑपरेटिंग सिस्टम को बनाने वाले स्टार्टअप के डायरेक्टर कार्तिक अय्यर के मुताबिक इस खास अपडेट से डिवाइस की सिक्योरिटी पक्की हो जाती है। इस अपडेट को अलग से फोन में इंस्टॉल करने की आवश्यकता भी नहीं होगी, बल्कि यह पहले से ही डिवाइस के साथ आएगा। 

यह भी पढ़ें: Flipkart Electronics Sale: आज से हो चुकी है शुरू, खत्म होने से पहले चुन लें अपना मनपसंद फोन

विश्वसनीय ऐप्स को ही मिलेगा एक्सेस 

OS पर केवल ट्रस्टेड ऐप्स को ही परमिशन मिलती है। 'BharOS' organisation-specific Private App Store Services (PASS) के जरिए ही ट्रस्टेड ऐप्स को परमिशन देता है।

IIT मद्रास देश में भरोस के उपयोग और युसेज को बढ़ाने के लिए कई और निजी उद्योगों, सरकारी एजेंसियों, रणनीतिक एजेंसियों और दूरसंचार सेवा प्रदाताओं के साथ मिलकर काम करने के लिए तत्पर है।

तकनीकी से जुड़ी सभी खबरों, प्रोडक्ट रिव्यू, साइंस-टेक फीचर और टेक अपडेट्स के लिए डिजिट.इन पर जाएँ या हमारे गूगल न्यूज पेज पर क्लिक करें।

Aafreen Chaudhary
Aafreen Chaudhary

Email Email Aafreen Chaudhary

Follow Us Facebook Logo Facebook Logo

About Me: Enjoying writing since 2017... Read More

WEB TITLE

Made in India BharOS tested

Advertisements

ट्रेंडिंग टेक न्यूज़

Advertisements

लेटेस्ट लेख सारे पोस्ट देखें

VISUAL STORY सारे पोस्ट देखें