Vodafone Idea, Airtel यूज़र्स के लिए बुरी खबर

द्वारा Digit Hindi | पब्लिश किया गया 27 Nov 2018
HIGHLIGHTS
  • अगर आप भी वोडाफोन आईडिया और एयरटेल के सब्सक्राइबर हैं तो यह खबर आपके लिए ही है। दरअसल ये दोनों कंपनियां एक ऐसा फैसला ले सकती हैं जो इनके सब्सक्राइबर्स को निराश कर सकता है। ये दोनों कंपनियां कुछ यूज़र्स के कनेक्शन को काट सकती हैं।

Vodafone Idea, Airtel यूज़र्स के लिए बुरी खबर

हाल ही में जारी एक रिपोर्ट के मुताबिक ऐसे Vodafone-Idea और Airtel सिम सब्सक्राइबर्स जो हर महीने 35 रुपए से भी कम में रिचार्ज कराते हैं, उनके कनेक्शंस काटे जा सकते हैं। जी हाँ, ऐसा हो सकता है। ऐसा कहा जा रहा है कि ऐसा करने वाले लगभग 200 मिलियन सब्सक्राइबर्स हैं जिनका कनेक्शन काटा जा सकता है। आपको बता दें कि Vodafone-Idea और Bharti Airtel ने कथित तौर पर लो Average Realisation Per User (ARPU)  वाले यूज़र्स के कनेक्शन को काटना का फैसला लिया है।

ऐसा इसलिए हो सकता है क्योंकि इस तरह के सभी यूज़र्स 35 रुपए से भी कम रिचार्ज कराकर 10 रुपए का ARPU जेनरेट कर रहे हैं जिससे कथित तौर पर एयरटेल को लगभग 100 करोड़ रूपए महीने का रेवेन्यू मिलता है। ऐसे में यूज़र्स अगर महीने में 35 रुपए तक का भी रिचार्ज कराते हैं तो कंपनी को मंथली 175  करोड़ रुपए का ही रेवन्यू मिलता है। ऐसे में 250 मिलियन 2G कनेक्शंस को डिसकनेक्ट किया जा सकता है, अगर यूज़र्स ने रिचार्ज नहीं बढ़ाया तो। एयरटेल के मुताबिक उसके पास 100 मिलियन ऐसे यूज़र्स है वहीं वोडाफोन आइडिया के पास ऐसे लगभग 150 मिलियन यूज़र्स हैं। खबरों के मुताबिक इन कंपनियों ने अपने 35 रुपए या उससे कम के मंथली रिचार्ज प्लान्स को हटा दिया है जो ARPU के नीचे थे।

Bharti Airtel के सीईओ और मैनेजिंग डायरेक्टर Gopal Vittal ने कहा, "हमारे पास 330 मिलियन वायरलेस कस्टमर्स हैं लेकिन अगर आप कंसम्पशन के पैटर्न को देखेंगे तो आप पाएंगे कि लो लेवल Arpu के साथ ऐसे बहुत से कस्टमर्स हैं जिन्हें हमने टेलीनॉर से लिया है और कुछ हमारे हैं, लगभग 100 मिलियन।"

अगर कोई एक कस्टमर Airtel या Vodafone Idea सिम को सेकेंडरी मोबाइल कनेक्शन के तौर पर इस्तेमाल करता है तो ऐसा हो सकता है कि वो सब हर महीने 35 रुपए से भी कम में रिचार्ज कराते हैं। यह सेकंड कनेक्शन ज़्यादातर केवल इनकमिंग कॉल्स के लिए ही यूज़ किया जाता है और 10  रुपए से रिचार्ज की वैलिडिटी को बरकरार रखा जाता है। ऐसे में कंपनी का यह फैसला उनके नेटवर्क को यूज़र्स के द्वारा प्राइमरी सिम ऑपरेटर के तौर पर भी इस्तेमाल करने पर ज़ोर देता है या फिर इससे यूज़र्स अपने रिचार्ज प्लान्स में भी इस फैसले के चलते बदलाव ला सकते हैं।

Advertisements

ट्रेंडिंग टेक न्यूज़

Advertisements

LATEST ARTICLES सारे पोस्ट देखें

Advertisements
DMCA.com Protection Status