क्या अंतर है 5G और 4G नेटवर्क में?

द्वारा Ashwani Kumar | पब्लिश किया गया 12 Jul 2020
क्या अंतर है 5G और 4G नेटवर्क में?
HIGHLIGHTS

भारत में अभी तक 5G को पेश नहीं किया गया है, हालाँकि ऐसा सामने आ रहा है कि एक 5G स्मार्टफोन को जल्द ही भारत में लॉन्च किया जा सकता है

लेकिन US में कई कैरियर के द्वारा 5G को शुरू कर दिया

अब 5G और 4G के बीच क्या अंतर होता है, आज हम इसी बारे में चर्चा करने वाले हैं

Advertisements

Access Open Source Technology

Innovate w/ IBM and Discover New Open Source Technology Today. Learn More.

Click here to know more

अगर हम मात्र भारत की ही बात करें तो आपको बता देते हैं कि भारत में रिलायंस जियो के बाजार में आने के बाद से लोगों ने असल मायने में 4G क्षमता को देखा है। इसके अलावा सस्ते इन्टरनेट की शुरुआत भी उसी दिन से हुई थी। हालाँकि अब यह दौर बदल गया है, और आज हम देख रहे हैं कि लगभग सभी टेलीकॉम कंपनियों की ओर से अपने टैरिफ प्लान्स की कीमत में बढ़ोत्तरी की है। एक दौर था जब हम मात्र 2G नेटवर्क पर ही नेट का इस्तेमाल किया करते थे, इसके बाद 3G ने अपनी जगह बाजार में बनाई और इसके बाद 4G ने अपनी एक अलग ही जगह बनाई है। अब सुनने में आ रहा है कि 5G को भी दुनियाभर में लाया जाने वाला है, आपको बता देते हैं कि US में कई कैरियर की ओर से 5G को पेश कर दिया गया है, हालाँकि भारत में और कई देशों में इसे आने में अभी भी समय लगने वाला है। अगर हम असल चीजों पर गौर करें तो ऐसा हो सकता है कि भारत में 5G को आने में लगभग 2 और साल का समय लगे। अब जब हम अभी पीछे हैं तो इसके बारे में ज्यादा चर्चा करना हमारे लिए एक बेकार की ही बात लगती है लेकिन हमें इस बारे में जरुर पता होना चाहिए कि आखिर 5G और 4G के बीच बड़ा क्या अंतर है, जिसके माध्यम से यह दोनों ही नेटवर्क एक दूसरे से बिलकुल ही अलग नजर आते हैं। आज हम आपको इसी बारे में बताने वाले है कि आखिर 4G और 5G के बीच क्या अंतर हैं?

अभी हाल ही में हमारे कुछ यूजर्स ने हमसे यह सवाल किया था कि आखिर 4G भारत में कितना तेज़ है, अर्थात् 4G की स्पीड कितनी होती है, ऐसा भी कहा जा सकता है कि आखिर 4G कितना फ़ास्ट होता है। अब इस बारे में मैं आपसे सच कहूँ तो मुझे भी नहीं पता था, या ऐसा भी कह सकते हैं कि हमने इस बारे में कुछ जानने की भी ज्यादा कोशिश नहीं की थी लेकिन अब जब मैंने TRAI यानी टेलीकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया पर जाकर इस बारे में जानना चाहा तो मुझे कुछ बढ़िया हाथ लगा है, अब जब मेरे हाथ यह लग गया है कि आखिर 4G कितना तेज़ है तो मैंने सोचा क्यों न इसे आपके साथ भी साझा किया जाए। इसी कारण मैं आपके सामने आज कुछ आंकड़े ले आया हूँ। जो आपको इस बारे में बताएँगे कि आखिर भारत में 4G की स्पीड क्या है। इसके अलावा आज हम आपको 5G से जुड़े भी कई पहलुओं के बारे में बताने वाले हैं। 

5G आखिर क्या है?

5G को एक इंडस्ट्री स्टैण्डर्ड के तौर पर देखा जा सकता है जो वर्तमान में चल रहे 4G LTE स्टैण्डर्ड से कुछ आगे बढ़कर सामने आने वाला है। जैसे कि 3G के स्थान पर 4G ने अपनी जगह बनाई थी वैसे ही ऐसा माना जा रहा है यह fifth generation के स्थान पर 5G नाम से आने वाला है। इसका मतलब है कि यह इस स्टैण्डर्ड का पांचवां standard है। 5G के बारे में ज्यादा जानें यहाँ!

इसे अभी वर्तमान में चल रहे 4G LTE तकनीकी से भी तेज़ गति से चलने के लिए निर्मित किया गया है। हालाँकि इसे मात्र स्मार्टफोन में इन्टरनेट की स्पीड को बढ़ाने को लेकर ही नहीं देखा जा रहा है। लेकिन ऐसा माना जा रहा है कि इसके साथ फास्टर वायरलेस इन्टरनेट को सभी जगह सभी के लिए पहुँचाया जा सकता है। इसके माध्यम से कार्स को कनेक्ट किया जा सकता है। यह आप आसानी से स्मार्टफोंस के साथ कर सकते हैं। 

ऐसा भी कहा जा सकता है कि भविष्य में आपके स्मार्टफोन के साथ अन्य सेलुलर कनेक्टिविटी वाले डिवाइस जो आपके पास हैं। वह सब 4G LTE तकनीकी के स्थान पर 5G का इस्तेमाल उसी तरह से करने वाले हैं, जैसा कि आज हम 4G का कर रहे हैं। 

क्या होता है 4G?

इसे सीधे शब्दों में कहें, तो 4G को मोबाइल प्रौद्योगिकी की चौथी पीढ़ी के रूप में परिभाषित किया गया है जो 2G और 3G नेटवर्क के बाद सामने आई है, या ऐसा भी कह सकते हैं कि जो 2G और 3G का अनुसरण करती है। इसे कभी-कभी 4G एलटीई भी कहा जाता है, लेकिन यह तकनीकी रूप से सही नहीं है क्योंकि एलटीई केवल एक प्रकार का 4G है। वर्तमान में यह सबसे उन्नत तकनीक है जिसे अधिकांश मोबाइल नेटवर्क सेवा प्रदाताओं द्वारा अपनाया जा रहा है। 4G के बारे में ज्यादा जानें यहाँ!

जब यह शुरू में बाजार में आया तो 4G ने दुनिया में एक बड़ा बदलाव किया, हम मोबाइल इंटरनेट का उपयोग कैसे करते हैं, इसे भी 4G ने पूरी तरह से बदलकर रख दिया। जबकि 3G नेटवर्क अपेक्षाकृत तेज़ है, और इसमें कोई भी दोराय नहीं है, लेकिन 4G नेटवर्क कनेक्शन ने उपयोगकर्ताओं को वेब ब्राउज़ करने और मोबाइल उपकरणों पर एचडी वीडियो स्ट्रीम करने की आज़ादी दी, जिसके बाद स्मार्टफोंस आधुनिक युग के कंप्यूटरों में बदल गए।

इसी कारण आप वह सभी काम जो लैपटॉप या डेस्कटॉप कंप्यूटर पर स्मार्टफोन या टैबलेट जैसे मोबाइल उपकरणों पर कर सकते हैं। इन्हें करने में 4G नेटवर्क सुनिश्चित करता है कि आपको कितने भी डाटा की आवश्यकता हो, आप लगभग हर जगह स्थिर गति पा सकते हैं।

कितना फ़ास्ट होने वाला है 5G नेटवर्क?

टेक कंपनियां 5G से काफी आशाजनक हैं। जबकि सैद्धांतिक 100 मेगाबिट्स प्रति सेकंड (एमबीपीएस) में 4G टॉप पर  है, हालाँकि 5G के मामले में यह टॉप 10 गीगाबिट्स प्रति सेकंड (जीपीएस) होने वाला है। इसका मतलब है कि 5G वर्तमान 4G तकनीक की तुलना में सौ गुना तेज  होने वाला है।

उदाहरण के लिए, उपभोक्ता प्रौद्योगिकी एसोसिएशन की एक रिपोर्ट में ऐसा भी सामने आ चुका है कि इस गति से, आप 5G पर केवल 3.6 सेकंड में, 4G पर 6 मिनट बनाम 3G पर 26 घंटे में दो घंटे की फिल्म डाउनलोड कर सकते हैं।

यह सिर्फ कहने वाली बात नहीं है, 5G में विलंबता को कम करने का वादा किया गया है, जिसका अर्थ है कि इंटरनेट पर कुछ भी करने के दौरान तेजी से लोड समय और बेहतर जवाबदेही बनने वाली है। विशेष रूप से, विनिर्देश आज 4G LTE पर 5G बनाम 20ms पर 4ms की अधिकतम विलंबता का वादा करता है।

इस गति पर, 5G वर्तमान होम केबल इंटरनेट कनेक्शन को देखा गया है और यह फाइबर के लिए अधिक तुलनीय है। कॉमकास्ट, कॉक्स और अन्य जैसी लैंडलाइन इंटरनेट कंपनियों को गंभीर प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ सकता है - खासकर जब वे एक निश्चित क्षेत्र में तेजी से होम  इंटरनेट के लिए एकमात्र विकल्प हैं। वायरलेस वाहक हर घर में भौतिक तारों को बिछाने के बिना एक विकल्प प्रदान कर सकते हैं।

सभी चाहते हैं कि कि 5G के बारे में सुपर-फास्ट, व्यावहारिक रूप से असीमित इंटरनेट हर जगह और सभी उपकरणों को सक्षम करने के बारे में भी सोचा जाए। बेशक, वास्तविक दुनिया में, इंटरनेट सेवा प्रदाता डाटा कैप लगाते हैं। उदाहरण के लिए, भले ही आपके वायरलेस कैरियर ने आपको 100 जीबी डाटा कैप दिया हो - जो कि आज की अधिकांश प्लान्स की तुलना में बहुत बड़ा है - आप एक मिनट में और 20 सेकंड में 10 Gbps की अधिकतम सैद्धांतिक गति से उड़ा सकते हैं। यह स्पष्ट नहीं है कि कौन से वाहक वाहक अंततः लगाएंगे और कितना उपयोग को प्रभावित करेंगे। 

आखिर कितना फ़ास्ट होता है 4G?

आसान शब्दों में कहें तो आपको बता देते हैं कि 3G के मुकाबले में 4G काफी फ़ास्ट होता है, लेकिन क्या इससे हमें कुछ भी पता चलता है? मेरी राय में तो आपको इससे कुछ भी पता नहीं चलता है क्योंकि 3G के मुकाबले 4G तेज़ है इसका क्या मतलब है। स्टैंडर्ड 4G ऑफर लगभग 14 एमबीपीएस की डाउनलोड स्पीड देता है, जो कि इसके पहले के 3G नेटवर्क की तुलना में लगभग पांच गुना अधिक तेज है। वास्तव में, 4G नेटवर्क 150 एमबीपीएस तक की गति तक पहुंच सकता है, जिससे उपयोगकर्ता 3G नेटवर्क की तरह घंटों के बजाय मिनट या सेकंड में गीगाबाइट डाटा डाउनलोड कर सकते हैं।

डाटा अपलोड करना भी इसमें बहुत तेज़ है– स्टैण्डर्ड 4G अपलोड गति लगभग 8 एमबीपीएस तक हो सकती है, जिसमें सैद्धांतिक गति 50 एमबीपीएस तक पहुंचती है, जबकि 3G लगभग 0.5 एमबीपीएस तक ही सीमित रह जाती है। यहाँ आपको अंतर पता चल ही गया होगा कि आखिर भारत में अभी भी 4G क्या स्पीड है, और असल में इसे कितना होना चाहिए।

5G नेटवर्क कैसे काम करता है?

5G तेज गति को प्राप्त करने के लिए बहुत सारी तकनीकी का लाभ उठाकर इनका इस्तेमाल भी करता है। हालाँकि यह मात्र इनोवेशन आदि की ही बात नहीं है। आईईईई स्पेक्ट्रम पत्रिका बहुत सारे तकनीकी विवरणों को अधिक गहराई से समझाने का एक अच्छा काम करती है, लेकिन यहां हम आपको इसे आसानी से समझाने वाले हैं।

नया स्टैण्डर्ड 4G से रेडियो स्पेक्ट्रम के पूरे नए बैंड का उपयोग करेगा। 5G "मिलीमीटर वेव्स" का लाभ उठाएगा, जो 30GHz और 300GHz बनाम बैंड के बीच 6GHz से नीचे के बैंड में प्रसारित होते थे, जो अतीत में उपयोग किए गए थे। ये पहले केवल उपग्रहों और रडार प्रणालियों के बीच संचार के लिए उपयोग में लिए जाते थे। लेकिन मिलीमीटर तरंगों को आसानी से इमारतों या अन्य ठोस वस्तुओं के माध्यम से यात्रा नहीं की जा सकती है, इसलिए 5G "छोटी cells" का भी लाभ उठाएंगे - छोटे लघु आधारित स्टेशन जिन्हें पूरे शहरी क्षेत्रों में लगभग 250 मीटर तक रखा जा सकता है। ये ऐसे स्थानों में बहुत बेहतर कवरेज प्रदान करेंगे।

ये बेस स्टेशन "बड़े पैमाने पर MIMO" का भी उपयोग करते हैं। MIMO का अर्थ है "मल्टीपल-इनपुट मल्टीपल-आउटपुट।" आपके पास MIMO तकनीक वाला एक होम वायरलेस राउटर भी हो सकता है, जिसका अर्थ है कि इसमें कई एंटेना होते हैं जिनका उपयोग यह कई अलग-अलग वायरलेस डिवाइसेज पर बात करने के लिए कर सकता है उनके बीच स्विच किए बिना ही यह ऐसा कर सकता है। बड़े पैमाने पर MIMO एक बेस स्टेशन पर दर्जनों एंटेना का उपयोग करेगा। वे उन संकेतों को बेहतर ढंग से निर्देशित करने के लिए बीमफॉर्मिंग का लाभ भी उठाएंगे, डिवाइस में इंगित होने वाले बीम में वायरलेस सिग्नल को निर्देशित करेंगे और अन्य उपकरणों के लिए हस्तक्षेप कम करेंगे।

5G बेस स्टेशन भी पूर्ण duplex  पर चलेंगे, जिसका अर्थ है कि वे एक ही आवृत्ति पर एक ही समय में संचारित और प्राप्त कर सकते हैं। आज, उन्हें संचारण और सुनने के तरीकों के बीच स्विच करना है, चीजों को धीमा करना है। यह 5G को इतनी तेजी से बनाने के लिए शामिल की जा रही कुछ प्रौद्योगिकी का एक स्नैपशॉट है।

कब तक अस्तित्त्व में आयेगा 5G?

वेरिजोन, एटी एंड टी, टी-मोबाइल और स्प्रिंट सभी ने यूएसए के कुछ हिस्सों में 5 जी की शुरुआत कर दी है। उदाहरण के लिए, टी-मोबाइल ने एक राष्ट्रव्यापी नेटवर्क तैयार किया है, हालांकि यह लो-बैंड स्पेक्ट्रम का उपयोग कर रहा है जो कि तेज मिलीमीटर वेव तकनीक के रूप में तेज नहीं है। AT & T ने कुछ शहरों में 5G भी लॉन्च किया है। 

नेटवर्क फिलहाल बहुत ज्यादा मायने नहीं रखता है, हालांकि, अधिकांश स्मार्टफोन के साथ-साथ नवीनतम आईफ़ोन भी शामिल हैं - जो 5G का समर्थन नहीं करते हैं। हम अभी भी वर्तमान 5G फोन खरीदने के खिलाफ सलाह देते हैं। दोनों नेटवर्क और फोन हार्डवेयर को अधिक विकास समय की आवश्यकता होती है। हम देख रहे है कि कुछ देशों में यह 2020 के अंत तक आने ही वाला है। हालाँकि अगर हम भारत की बात करें तो अभी भी 5G को यहाँ अस्तित्त्व में आने में कुछ समय लग सकता है। ऐसा माना जा रहा है कि अभी भी इसे भारत में आने में लगभग 2 साल का समय और लग सकता है।

logo
Ashwani Kumar

Web Title: What is 5G and what is the difference in 4g and 5g network in india
Advertisements

ट्रेंडिंग टेक न्यूज़

Advertisements
Advertisements

पोपुलर मोबाइल फोंस

सारे पोस्ट देखें

Digit caters to the largest community of tech buyers, users and enthusiasts in India. The all new Digit in continues the legacy of Thinkdigit.com as one of the largest portals in India committed to technology users and buyers. Digit is also one of the most trusted names when it comes to technology reviews and buying advice and is home to the Digit Test Lab, India's most proficient center for testing and reviewing technology products.

हम 9.9 लीडरशिप के तौर पर जाने जाते हैं! भारत की एक अग्रणी मीडिया कंपनी के निर्माण और प्रगतिशील उद्योग के लिए नए लीडर्स को करते हैं तैयार

DMCA.com Protection Status