क्या हैं LTE और VoLTE? LTE और VoLTE के बीच का अंतर

द्वारा Digit Hindi | पब्लिश किया गया 15 Apr 2020
HIGHLIGHTS
  • आज हम आपको बताने वाले हैं कि आखिर LTE, 4G और VoLTE नेटवर्क के बीच में क्या अंतर होता है

क्या हैं LTE और VoLTE? LTE और VoLTE के बीच का अंतर
क्या हैं LTE और VoLTE? LTE और VoLTE के बीच का अंतर

हम मोबाइल इंटरनेट में एक नए युग में प्रवेश कर रहे हैं। यह 4G से 5G इंटरनेट का संक्रमण समय है। रिलायंस जियो की ओर से मुफ्त वॉयस कॉलिंग और फ्री अनलिमिटेड 4G इंटरनेट ऑफर की खूब चर्चा भी थी लेकिन अब यह कुछ कुछ कम हो रही है। यह शुरुआत Jio की ओर से ही हुई थी और जब से Jio ने ऑफर दिया था, तब से लोग सवाल पूछ रहे हैं कि क्या उनका फोन 4G सपोर्ट करता है और LTE और VoLTE में क्या अंतर है। आज हम आपको LTE और VoLTE जैसी तकनीकियों के बारे में ही बताने वाले हैं, जिनके बारे में आज बहुत से लोग जानते हैं लेकिन कुछ आज भी ऐसे हैं जो इस बारे में कुछ भी नहीं जानते हैं। आज हम आपको इसी बारे में बताने वाले हैं कि आखिर VoLTE और LTE के बीच क्या अंतर होता है।

क्या होता है LTE?

एलटीई एक मोबाइल इंटरनेट तकनीकी मानक है। यह दीर्घकालिक विकास का एक संक्षिप्त नाम है। आपको आश्चर्य हो सकता है कि LTE 4G के संदर्भ में क्यों पॉप अप करता रहता है। खैर, 4G (या चौथी पीढ़ी) एलटीई तकनीक का एक सामान्य नाम है। संक्षेप में, 4G और LTE पर्यायवाची हैं।

सैद्धांतिक रूप से, LTE प्रति सेकंड 100Mbps की डाउनलोड स्पीड और 50Mbps प्रति सेकंड की अपलोड स्पीड का सपोर्ट करता है। LTE-Advanced नामक LTE का एक और संस्करण, प्रति सेकंड 1 GBits की डाउनलोड गति और 500Mpbs प्रति सेकंड की अपलोड स्पीड का सपोर्ट करता है।

LTE को CDMA और GSM दोनों मानकों पर एक तकनीकी विकास माना जाता है, जिसका उपयोग कई साल पहले किया गया था। आजकल, एलटीई तेजी से दुनिया भर में उपलब्ध हो रहा है और मोबाइल इंटरनेट सेवा प्रदाता अपने नेटवर्क को 3G से 4G में अपग्रेड कर रहे हैं। हालाँकि अब ऐसा समय आ रहा है जब 4G से 5G पर लोग जा रहा हैं. LTE वर्तमान में सबसे तेज डाटा ट्रांसफर तकनीक है (हम भारत की बात कर रहे हैं) और जल्द ही यह सभी मोबाइल इंटरनेट तकनीकों में सबसे प्रमुख हो सकता है।

क्या होता है VoLTE?

VoLTE एक ऐसी तकनीक है जिसमें आप एक साथ आवाज की गुणवत्ता को कम किए बिना नेटवर्क पर वॉयस और डाटा ट्रांसफर कर सकते हैं। LTE के मामले में, यदि आप वॉयस कॉल करते हैं और आप अपना डाटा कनेक्शन चालू रखते हैं, तो आवाज़ की गुणवत्ता कम हो जाएगी। इसलिए, एक अच्छी गुणवत्ता वाली वॉयस कॉल करने के लिए, आपको डाटा स्विच करना होगा। आपने देखा होगा कि 3G और 4G के मामले में, जब आप फोन कॉल कर रहे होते हैं, तो कुछ फोन स्वचालित रूप से डाटा  स्थानांतरण को रोक देंगे ताकि आवाज की गुणवत्ता को संरक्षित किया जा सके।

लेकिन VoLTE के मामले में, आपके डाटा कनेक्शन चालू होने पर भी आवाज की गुणवत्ता कम नहीं होगी। VoLTE के साथ डाटा नेटवर्क पर टेलीफोन वार्तालाप को प्रसारित करना बहुत आसान है।

क्या होता है 4G?

इसे सीधे शब्दों में कहें, तो 4G को मोबाइल प्रौद्योगिकी की चौथी पीढ़ी के रूप में परिभाषित किया गया है जो 2G और 3G नेटवर्क के बाद सामने आई है, या ऐसा भी कह सकते हैं कि जो 2G और 3G का अनुसरण करती है। इसे कभी-कभी 4G एलटीई भी कहा जाता है, लेकिन यह तकनीकी रूप से सही नहीं है क्योंकि एलटीई केवल एक प्रकार का 4G है। वर्तमान में यह सबसे उन्नत तकनीक है जिसे अधिकांश मोबाइल नेटवर्क सेवा प्रदाताओं द्वारा अपनाया जा रहा है।

जब यह शुरू में बाजार में आया तो 4G ने दुनिया में एक बड़ा बदलाव किया, हम मोबाइल इंटरनेट का उपयोग कैसे करते हैं, इसे भी 4G ने पूरी तरह से बदलकर रख दिया। जबकि 3G नेटवर्क अपेक्षाकृत तेज़ है, और इसमें कोई भी दोराय नहीं है, लेकिन 4G नेटवर्क कनेक्शन ने उपयोगकर्ताओं को वेब ब्राउज़ करने और मोबाइल उपकरणों पर एचडी वीडियो स्ट्रीम करने की आज़ादी दी, जिसके बाद स्मार्टफोंस आधुनिक युग के कंप्यूटरों में बदल गए।

इसी कारण आप वह सभी काम जो लैपटॉप या डेस्कटॉप कंप्यूटर पर स्मार्टफोन या टैबलेट जैसे मोबाइल उपकरणों पर कर सकते हैं। इन्हें करने में 4G नेटवर्क सुनिश्चित करता है कि आपको कितने भी डाटा की आवश्यकता हो, आप लगभग हर जगह स्थिर गति पा सकते हैं।

आखिर कितना फ़ास्ट होता है 4G?

आसान शब्दों में कहें तो आपको बता देते हैं कि 3G के मुकाबले में 4G काफी फ़ास्ट होता है, लेकिन क्या इससे हमें कुछ भी पता चलता है? मेरी राय में तो आपको इससे कुछ भी पता नहीं चलता है क्योंकि 3G के मुकाबले 4G तेज़ है इसका क्या मतलब है। स्टैंडर्ड 4G ऑफर लगभग 14 एमबीपीएस की डाउनलोड स्पीड देता है, जो कि इसके पहले के 3G नेटवर्क की तुलना में लगभग पांच गुना अधिक तेज है। वास्तव में, 4G नेटवर्क 150 एमबीपीएस तक की गति तक पहुंच सकता है, जिससे उपयोगकर्ता 3G नेटवर्क की तरह घंटों के बजाय मिनट या सेकंड में गीगाबाइट डाटा डाउनलोड कर सकते हैं।

डाटा अपलोड करना भी इसमें बहुत तेज़ है– स्टैण्डर्ड 4G अपलोड गति लगभग 8 एमबीपीएस तक हो सकती है, जिसमें सैद्धांतिक गति 50 एमबीपीएस तक पहुंचती है, जबकि 3G लगभग 0.5 एमबीपीएस तक ही सीमित रह जाती है। यहाँ आपको अंतर पता चल ही गया होगा कि आखिर भारत में अभी भी 4G क्या स्पीड है, और असल में इसे कितना होना चाहिए।

हम 3G और 4G के अलावा कुछ अन्य नेटवर्क भी यहाँ देखेंगे

इमेज सोर्स

यहाँ मैं समझता हूँ आप 4G आखिर कितना फ़ास्ट है इस बारे में जान ही गए होंगे। आप TRAI की वेबसाइट पर जाकर भी इस डाटा के बारे में जानकारी ले सकते हैं, यहाँ आपको सभी डाटा मिल जाने वाला है। आपको बता देते हैं कि आप इस लिंक पर क्लिक करके इस बारे में सारी जानकारी ले सकते हैं। 

Advertisements

ट्रेंडिंग टेक न्यूज़

Advertisements

LATEST ARTICLES सारे पोस्ट देखें

Advertisements