Intel AMA
Intel AMA

रिलायंस जियो के साथ 5G तकनीकी के लिए इस दिग्गज कंपनी ने मिलाया हाथ, अब बुलेट ट्रेन की तरह चलेगा इंटरनेट

द्वारा Digit Hindi | पब्लिश किया गया 23 Jun 2021 | अपडेटेड इसपर 23 Jun 2021
HIGHLIGHTS
  • इंटेल ने 5G नेटवर्किंग तकनीक विकसित करने के लिए रिलायंस जियो के साथ साझेदारी की घोषणा की है

  • पनी ने कहा है कि वह रिलायंस जियो के साथ अपने 5G रेडियो-एक्सेस नेटवर्क (आरएएन) के लिए अन्य चीजों के साथ "Co-Innovations" पर काम करेगी

  • Reliance Jio दुनिया भर में कई दूरसंचार सेवा प्रदाताओं में से एक है, जो Nokia, Ericsson और Huawei जैसी फर्मों से 5G तकनीक प्राप्त करने के पारंपरिक दृष्टिकोण को नहीं अपना रहा है

रिलायंस जियो के साथ 5G तकनीकी के लिए इस दिग्गज कंपनी ने मिलाया हाथ, अब बुलेट ट्रेन की तरह चलेगा इंटरनेट
रिलायंस जियो और इंटेल ने 5G तकनीकी को लेकर मिलाया हाथ, बुलेट ट्रेन से भी तेज़ चलेगा इंटरनेट

इंटेल ने 5G नेटवर्किंग तकनीक विकसित करने के लिए रिलायंस जियो के साथ साझेदारी की घोषणा की है। कंपनी ने कहा है कि वह रिलायंस जियो के साथ अपने 5G रेडियो-एक्सेस नेटवर्क (आरएएन) के लिए अन्य चीजों के साथ "Co-Innovations" पर काम करेगी।

Reliance Jio दुनिया भर में कई दूरसंचार सेवा प्रदाताओं में से एक है, जो Nokia, Ericsson और Huawei जैसी फर्मों से 5G तकनीक प्राप्त करने के पारंपरिक दृष्टिकोण को नहीं अपना रहा है। इसके बजाय, यह अपना खुद का 5G नेटवर्क बना रहा है। इसके अलावा आपको बता देते है कि एयरटेल ने भी एक ऐसा ही कदम उठाते हुए भारत में देसी 5G के लिए टाटा से साझेदारी की घोषणा की है।

इंटेल में डेटा प्लेटफॉर्म समूह के कार्यकारी उपाध्यक्ष और महाप्रबंधक नवीन शेनॉय ने एक साक्षात्कार में रॉयटर्स को बताया, "यह एक अच्छी साझेदारी का फल है।" "भारत में 5G बड़े पैमाने पर शुरू होने जा रहा है और (Reliance Jio) इसे गैर-विरासत रास्ते पर ले जा रहा है।"

आपको याद दिला देते है कि इंटेल की उद्यम पूंजी इकाई ने पिछले साल रिलायंस इंडस्ट्रीज के Jio प्लेटफॉर्म में 250 डॉलर मिलियन का निवेश किया था। इस समय कहा गया था कि निवेश दोनों कंपनियों के लिए प्रौद्योगिकी साझेदारी के क्षेत्रों को खोजने के लिए मिलकर काम करने के लिए है।

2020 में इंटेल के नेटवर्किंग चिप्स व्यवसाय में 20 प्रतिशत की वृद्धि हुई। कंपनी के नेटवर्क प्लेटफॉर्म के महाप्रबंधक डैन रोड्रिग्ज के अनुसार, कंपनी द्वारा अपने नेटवर्क चिप्स के लिए एक ऑपरेटिंग सिस्टम विकसित करने के कारण ऐसा हुआ है, जिसे FlexRAN कहा जाता है। FlexRAN मूल रूप से कैरियर या सॉफ्टवेयर फर्मों को 5G नेटवर्क के लिए कोड लिखने की अनुमति देता है। 

Cohere Technologies के सॉफ़्टवेयर के साथ FlexRAN वाहकों को कंपनी के अनुसार Intel के चिप्स का उपयोग करके कुछ नेटवर्क स्पेक्ट्रम के उपयोग को दोगुना करने में मदद कर सकता है। इससे रिलायंस जियो सहित वाहकों को लाभ होगा जो अपनी सरकारों से महंगे स्पेक्ट्रम अधिकार प्राप्त कर रहे हैं।

एकक बार फिर से आपको याद दिला देते है कि, रिलायंस जियो ने घोषणा की है कि वह देश में अपने स्वयं के 5G नेटवर्क विकसित और तैनात करेगा, जैसे कि हमने आपको ऊपर भी बताया है कि भारती एयरटेल ने हाल ही में अपने खुद के 5G नेटवर्क विकसित करने के लिए क्वालकॉम और टीसीएस के साथ भागीदारी की है। इनके अलावा, वीआई और एमटीएनएल को भी सरकार से देश में अपने 5जी नेटवर्क के परीक्षण के लिए हरी झंडी मिल गई है।

Digit Hindi
Digit Hindi

Email Email Digit Hindi

Follow Us Facebook Logo Facebook Logo

About Me: Ashwani And Aafreen is working for Digit Hindi, Both of us are better than one of us. Read the detailed BIO to know more about Digit Hindi Read More

Web Title: reliance jio and inter join hands for 5G in india
Tags:
Reliance Jio 5G Jio 5G Jio 5G India 5G in India India 5G networks Jio Intel partnership Intel Jio partnership Intel Jio 5G Intel 5G india 5G RAN 5G radio access network 5G networking 5G networks FlexRAN 5G technology India
Advertisements

ट्रेंडिंग टेक न्यूज़

Advertisements

LATEST ARTICLES सारे पोस्ट देखें

Advertisements
DMCA.com Protection Status