अपने बिजनेस के लिए कैसे एक वीपीएन सेट अप करें

द्वारा Spandan Sharma | पब्लिश किया गया Jan 29 2015
अपने बिजनेस के लिए कैसे एक वीपीएन सेट अप करें
HIGHLIGHTS

टेलिकम्युनिकेटिंग के सेटिंग अप में सम्मिलित ट्रिक्स को सीखें

मान लीजिए कि आप अपने काम से एक दिन की छुट्टी लेते हैं, और अपने मित्रों के साथ एक बहुप्रतीक्षित लंच पर जाते हैं। अचानक आपके बॉस का कॉल आता है और वह कहता है कि आपने ऑफिस नेटवर्क पर कुछ डेटा रखा है और उसकी एक संक्षिप्त समरी बना कर आप मेल करें। अभी इस वक्त आप अपने ऑफिस कम्प्यूटर या ऑफिस में एक फाइलसर्वर पर स्टोर किये गये डेटा को कैसे देख पायेंगे? एक ऑप्शन है उस डेटा शेयर को एक क्लाउड बेस्ड सर्विस जैसे ड्रॉप बॉक्स पर रखना, लेकिन इससे वे डेटा बहुत ही असुरक्षित और खुले हो सकते हैं। ऐसी स्थिति में, आपको एक वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क (वीपीएन) की जरूरत है।

वीपीएन एक टेक्नोलॉजी है जिसका उपयोग रिमोट कम्प्यूटर नेटवर्क को अलग करने हेतु कम्प्यूटर को कनेक्ट करने के लिए इंटरनेट या किसी दूसरे इंटरमीडिएट नेटवर्क का उपयोग करने के लिए होता है जो किसी अन्य के द्वारा एक्सेसेबल न हो। एक वीपीएन अलग-अलग लेवल की सिक्युरिटी दे सकता है ताकि वीपीएन कनेक्शन के माध्यम से भेजा गया डेटा, या तो वीपीएन के ‘‘एक एंड’’ से दूसरे एंड तक एक डेडिकेटेड कनेक्शन के द्वारा या इनक्रिप्शन के द्वारा, इंटरमीडिएट नेटवर्क पर दूसरे एक्सेस प्वॉइंट से अलग रह सके। एक रिमोट कम्प्यूटर के साथ इनडिविजुअल यूजर्स से कनेक्ट करने के अलावा, वीपीएन मल्टीपल नेटवर्क्स को कनेक्ट करने में भी सक्षम होते हैं।

यदि आप एक छोटे कॉर्पोरेट सेट अप का हिस्सा हैं जिसमें ऐसे कर्मचारी हैं जिनको यात्रा के दौरान बार-बार काम करना होता है, घर से काम करना होता है, तो आपको एक ऐसे सॉल्यूशन में खर्च करना चाहिए जो सुरक्षित कनेक्शन के द्वारा ऐसे कर्मचारियों को ऑफिस नेटवर्क से कनेक्ट करने और उस पर उपलब्ध डेटा तथा रिसोर्सेज को एक्सेस करने की सुविधा देता है। यदि आपके पास वास्तव में एक छोटा सेट अप है जहां केवल एक या दो लोगों को एक सिंगल कंपनी कम्प्यूटर के साथ कनेक्ट करने की जरूरत हो तो आप गो टू मार्इ पीसी या लॉग मी इन जैसे रिमोट डेस्कटॉप एक्सेस सॉफ्टवेयर का उपयोग कर सकते हैं। हालांकि यदि आपको मल्टीपल रिमोट कनेक्शन की जरूरत है तो एक पूरा वीपीएन अच्छा विचार हो सकता है।

पालन किये जाने वाले प्रोटोकॉल्स

कोर्इ भी वीपीएन उपलब्ध अनेक प्रोटोकॉल्स में से किसी एक का पालन कर सकता है, या दो अलग-अलग प्रोटोकॉल्स से दो या उससे अधिक एलीमेंट्स को मिला कर एक ‘हार्इब्रिड प्रोटोकॉल’ का पालन भी कर सकता है। आज वीपीएन के लिए आम तौर पर सबसे बड़े और सबसे अधिक प्रयुक्त किये जाने वाले तीन प्रोटोकॉल्स को हम देखेंगे:

1. पीपीटीपी: प्वॉइंट टू प्वॉइंट टनलिंग प्रोटोकॉल (पीपीटीपी) को सबसे पहले माइक्रोसॉफ्ट के द्वारा विंडोज 95 में लागू किया गया था, और तभी से हमेशा इसके वीपीएन रहे हैं। विंडोज 95 से लेकर सभी विंडो वर्जन में पीपीटीपी का डिफॉल्ट सपोर्ट है, और इसी तरह मैक ओएस एक्स, कुछ स्मार्टफोन और वीपीएन डिवाइसेज में भी। हालांकि इस प्रोटोकॉल में सिक्युरिटी की गंभीर शिकायतें रही हैं और इसीलिए हर जगह इसका उपयोग धीरे-धीरे समाप्त होने लगा। अत: चूंकि पीपीटीपी अभी भी उपलब्ध है और आपके डिवाइस के लिए अधिकतर उपलब्ध रहेगा, इसलिए दूसरे अधिक सुरक्षित प्रोटोकॉल को चुनना बेहतर पसंद हो सकता है।

2. आर्इपीसेक: इंटरनेट प्रोटोकॉल सिक्युरिटी (आर्इसेक) का निर्माण इंटरनेट इंजीनियरिंग टास्क फोर्स (आर्इर्इटीएफ) द्वारा किया गया था और यह एक स्टैंडर्ड है जो एक लो लेवल पर सारे नेटवर्क ट्रैफिक को इनक्रिप्ट करता है। आर्इपीसेक, अनेक वेंडर्स जैसे- सिस्को, जूनिपर और माइक्रोसॉफ्ट के द्वारा और यहां तक कि अपने वीपीएन सॉफ्टवेयर के फाउंडेशन के रूप में, ओपेन-सोर्स प्रोजेक्ट्स जैसे- कैमे और ओपेनस्वान के द्वारा भी आम तौर पर सबसे ज्यादा प्रयुक्त किया जाने वाला प्रोटोकॉल है।

आर्इपीसेक का सबसे बड़ा फायदा यह है कि सभी रिमोट यूजर्स को एक्सेस की अनुमति पाने से पहले वेरिफिकेशन के दो लेवल से हो कर गुजरने की जरूरत होती है- पहले नेटवर्क से कनेक्ट करने के लिए बेसिक ऑथेंटिकेशन और दूसरे नेटवर्क पर उपलब्ध डेटा को एक्सेस करने के लिए ऑथेंटिकेशन। इससे सेंसिटिव डेटा की सिक्युरिटी मेंटेन करने में मदद मिलती है। मैक ओएस एक्स जैसे कुछ ऑपरेटिंग सिस्टम आर्इपी सेक वीपीएन के साथ कनेक्ट करने के लिए प्री-कन्फिगर्ड हो कर आते हैं जबकि इसी काम के लिए अधिकतर विंडो सिस्टम थर्ड पार्टी सॉफ्टवेयर पर निर्भर होते हैं। अनेक मोबाइल डिवाइस भी जेनरिक आर्इसेक कनेक्टिविटी को सपोर्ट करते हैं।

3. एसएसएल: सिक्योर सॉकेट लेवल वीपीएन (एसएसएल-वीपीएन) (इसे सिक्योर सॉकेट टनलिंग प्रोटोकॉल (एसएसटीपी) के रूप में भी जाना जाता है) एक ऐसा प्रोटोकॉल है जो ‘‘क्लाएंटलेस’’ वीपीएन के निर्माण की सुविधा देता है। इसका मतलब यह है कि रिमोट कम्प्यूटर को वीपीएन में लॉग इन के लिए एक प्री-इंस्टॉल्ड क्लाएंट रखने की जरूरत नहीं होती है। रिमोट नेटवर्क से कनेक्ट करने के लिए, यूजर बस इंटरनेट या उसी तरह के एक इंटरमीडिएट नेटवर्क का उपयोग कर सकता है। और वहां उन्हें डेटा एक्सेस करने के लिए ऑथेंटिकेशन का कुछ स्वरूप देना होगा।

इस प्रोटोकॉल के द्वारा दी जानेवाली प्रॉफिटेबिलिटी और एक्सेसिबिलिटी की अधिक मात्रा के कारण यह बहुत ही लोकप्रिय हो गया है। हालांकि यह ऑथेंटिकेशन के अतिरिक्त लेयर की कमी के कारण अक्सर सिक्युरिटी को त्याग देता है, जैसा कि आर्इपीसेक में देखा गया है।

मैं कैसे जानूँ के किस वीपीएन सॉफ्टवेयर का उपयोग किया जाय?

इंटरनेट और सॉफ्टवेयर से संबंधित अधिकांश चीजों की तरह, ‘‘वीपीएन सॉफ्टवेयर’’ की गूगलिंग आपको चुनने के लिए चकित कर देने वाले ऑप्शन्स देता है। वहां बहुत से फ्री और पेड वीपीएन सॉफ्टवेयर उपलब्ध हैं। हालांकि, यदि आप एक छोटे ऑफिस वाले या होम ऑफिस (एसओएचओ) सेटअप वाले हैं, तो एक फ्री सर्विस जो आपकी बेसिक जरूरतों को पूरा करती है, वह आपके लिए सही होगी। नीचे, हमने आपके अपने वीपीएन सेट अप करने के लिए कुछ पसंदीदा और रेकमेंडेड सॉफ्टवेयर की लिस्ट दी है:

1. टीमव्यूवर 5: यदि आप बहुत से फीचर्स, दूर से ही डेस्कटॉप के साथ एक्सेस शेयर करने की क्षमता, और पैकेज में प्रेजेंटेशन सॉफ्टवेयर पाने के साथ रिमोट कंट्रोल की संभावनाओं की तलाश कर रहे हैं तो टीम व्यूवर 5 सबसे सरल और पावरफुल सॉल्यूशन दोनों है। बिजनेस और कॉर्पोरेट सेट अप को थोड़ा अधिक भुगतान करना होगा लेकिन लोगों को व्यक्तिगत रूप से यह फ्री मिल सकता है। यह हर तरह से एक अच्छी पसंद होगा।

2. विप्पिएन: विप्पिएन एक बहुत ही बेसिक लेकिन हैंडी वीपीएन सॉफ्टवेयर है। यह उनके लिए सबसे अच्छा है जिनके नेटवर्क की जरूरत केवल फाइल और कंटेंट को शेयर करने और दोस्तों के साथ मल्टीप्लेयर गेमिंग के लिए है।

3. लॉ मी इन हमाची: यह बिजनेस फोकस्ड वीपीएन क्लाएंट्स में सबसे अच्छा है। उद्योग स्तरीय सुरक्षा के साथ यह बिजनेस के लिए वीपीएन सेट अप किया जाने वाला एक अत्यंत व्यापक पैकेज है। हमाची डेटा इनक्रिप्शन, मल्टीपल फाइल्स का कम्प्रेशन और उससे चकित करने वाला कस्टमाइजेबल चैट ऑप्शन को सपोर्ट करता है। इसका क्लाएंट अपने आप में बहुत हैंडी और यूजर फ्रेंडली है। हालांकि इसका बेसिक वर्जन ही फ्री है और इसके यूजर के पास अपने विवेक से अधिक एड-ऑन फीचर्स खरीदने का ऑप्शन है।

4. ओपेन वीपीएन शील्ड एक्सचेंज: ओपेन वीपीएन इंटरनेट के द्वारा एक सेफ और सिक्योर कनेक्शन देता है। यह बहुत ही सस्ता है, और यह विंडोज और मैक दोनों प्लेटफॉर्म के लिए क्लाएंट्स देता है। हालांकि उपयोग की पहली 100 एमबी तक ही इसकी सर्विस फ्री होती है और यूजर्स ने शिकायत की है कि समय-समय पर ब्राउजिंग स्पीड को स्लो कर देता है। लेकिन कुल मिला कर, आपकी कंपनी की जरूरतों के लिए उपयोगी है या नहीं- इस बात की बेसिक जानकारी लेने के लिए यह आजमाने लायक एक ऑप्शन है।

याद रखने की बात

जब एक वीपीएन चुनने और उसकी लोकप्रियता और समीक्षा के आधार पर उसके चुनाव की बात आती है तब बहुत से यूजर्स उपलब्ध वेराइटी के ऑप्शन्स के कारण भ्रमित हो जाते हैं। ‘‘कौन-सा वीपीएन बेहतर है?’’ इससे महत्वपूर्ण प्रश्न यह है कि ‘‘कौन-सा वीपीएन मेरे बिजनेस की जरूरतों के प्रति अधिक अनुकूल है?’’ सभी वीपीएन के अपने-अपने फायदे होते हैं; हालांकि कुछ दूसरों के मुकाबले आपके लिए ज्यादा फायदेमंद हो सकते हैं। या, जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है, आप यह मान कर एंड अप कर सकते हैं कि दो या उससे अधिक अलग-अलग वीपीएन का एक ‘‘हार्इब्रिड वीपीएन’’ आपकी जरूरतों के प्रति अधिक अनुकूल हो।

आपके वीपीएन की पसंद जरूरतों के अधार पर होनी चाहिए जिसने पहले स्थान पर आपको एक वीपीएन लेने के लिए प्रेरित किया। यदि आप बहुत सेंसेटिव डेटा के साथ काम करते हैं जिसे रिमोट मशीन तक भेजने के दौरान बहुत सिक्युरिटी की जरूरत है तो शायद, आर्इपीसेक वीपीएन एक बेहतर पसंद हो सकता है। जैसे कि एक जो सिस्को स्मॉल बिजनेस सीरीज रूटर्स द्वारा दिया गया। ये रूटर्स सिस्को के स्वामित्व वाले क्विक वीपीएन सॉफ्टवेयर का उपयोग करते हैं जो विंडो 7 (64-बिट और 32-बिट), विंडो एक्सपी (32-बिट) और विंडो विस्टा (64-बिट और 32-बिट) के साथ कम्पाइटेबल है। दूसरी ओर, यदि आप सिक्युरिटी को लेकर चिंतित नहीं हैं, लेकिन आपके पास बहुत से ऐसे कर्मचारी हैं जो लगातार ऑन-द-मूव हैं और संभावना चिंता का एक विषय है, तो एसएसएल-आधारित वीपीएन जैसे आरवी220डब्ल्यू वायरलेस नेटवर्क सिक्युरिटी फायरवॉल अधिक उपयोगी होगा। चतुरार्इ के साथ चुनें और अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए सही चीज को पसंद करें।

याद रखने योग्य दूसरी महत्वपूर्ण बात यह है कि एक वीपीएन को सेट अप करते समय यह सुनिश्चित करें कि आपके पास वीपीएन और उसके रिमोट यूजर्स को सपोर्ट करने के लिए पर्याप्त बैंडविथ हो। यदि लिमिटेड बैंडविथ के कारण आपकी अपलोड स्पीड कम है, तो रिमोट यूजर को उनके नेटवर्क स्पीड में एक भारी ड्रॉप दिखेगा।

अंतिम लेकिन खास बात यह है कि आश्वस्त हो लें कि जिस वीपीएन को आप चुन रहे हैं वह आपके वीपीएन पर मशीन द्वारा प्रयोग किये जाने वाले सभी ऑपरेटिंग सिस्टम को सपोर्ट करता हो। कुछ खास तरह के वीपीएन कुछ खास तरह के ऑपरेटिंग सिस्टम को ही सपोर्ट करते हैं, तो उसे चुनने के प्रति आश्वस्त हों कि वो आपके वीपीएन के सभी यूजर्स की जरूरतों के अनुकूल हो।

एक बेसिक वीपीएन को सेट अप करना बहुत ही सरल है और आप अपने छोटे बिजनेस के लिए बिना सर्वर रखे भी एक वीपीएन सेट अप कर सकते हैं। और एक बार सेट अप हो जाने के बाद, आपके सभी डेटा यथोचित रूप से सुरक्षित हो जाते हैं। और उसके बाद आपके नेटवर्क से भेजे गए डेटा की होने वाली जासूसी की आपकी चिंता समाप्त हो जाती है। यहां तक कि साधारण वीपीएन भी आपको एक बड़ी और अधिक सुसज्जित कंपनी के बराबर सुरक्षा दे सकता है। और यह एक बहुत अच्छा निवेश होगा। इसके लिए आगे बढ़ें!

logo
Spandan Sharma

Digit caters to the largest community of tech buyers, users and enthusiasts in India. The all new Digit in continues the legacy of Thinkdigit.com as one of the largest portals in India committed to technology users and buyers. Digit is also one of the most trusted names when it comes to technology reviews and buying advice and is home to the Digit Test Lab, India's most proficient center for testing and reviewing technology products.

हम 9.9 लीडरशिप के तौर पर जाने जाते हैं! भारत की एक अग्रणी मीडिया कंपनी के निर्माण और प्रगतिशील उद्योग के लिए नए लीडर्स को करते हैं तैयार